जल रहा मनिपूर Read Count : 91

Category : Poems

Sub Category : N/A
यहाँ न कोई रहा नियम
यहाँ का गलत है CM
जल रहा मनिपूरम
अंधा बना है भारत का PM |
               बलि चढ़ रही नारी की अस्मत
               अरे ,  फुटी है भारत की किस्मत
               मिला भारत को बेदर्दी PM
                जो है   Diff and Dumb |
RSS का पहना है चोला
न कभी उसने सच बोला
जब भी अपना मुॅंह खोला
ईन्सानियत को व्यापार में तोला |
                 छोड़े है चहुओर RSS  के Dogs
                 बुझने लगे भारत के चिराग
                 बढ़ रहा है अत्याचार चरम
               हो रहा नारी का शील हरण |
no rules here
CM is wrong here
Manipuram burning
The PM of India is blind.
               The dignity of a woman being sacrificed
               Hey, India's fate is broken
               India got unkindness PM
                which is Diff and Dumb.
RSS's cloak is worn
never told the truth
whenever you open your mouth
Weighed humanity in business.
                 Dogs of RSS have left
                 India's lamp started extinguishing
                 tyranny on the rise
               Women's modesty is being abducted.

Comments

  • No Comments
Log Out?

Are you sure you want to log out?