Writing 205 Read Count : 117

Category : Stories

Sub Category : Historical Fiction
मथुरा में भोजवंशी राजा उग्रसेन राज्य करते थे। उनके आक्रामक पुत्र कंस ने उन्हें सिंहासन से हटा दिया और स्वयं मथुरा के राजा बन गए। एक बार राजा कंस था जो देवकी का भाई था। वह अपनी बहन देवकी को उसके ससुराल छोड़ने जा रहा था कि रास्ते में थकान के कारण उसे नींद आ गई। वह रथ में सोते-सोते अपनी बहन की ससुराल जाने लगा। अचानक उसे एक सपना आया। उस स्वप्न में बताया गया कि तेरी बहन अर्थात् देवकी के गर्भ से उत्पन्न आठवां पुत्र, जिसे तू प्रसन्नतापूर्वक उसकी ससुराल ले जा रहा है, तुझे मार डालेगा। कंश घबराहट में नींद से जाग गया। कंश के बाद अपने सपने के बारे में बताता है। उसने वासुदेव (देवकी के पति) से उसे मारने के लिए कहा। तब देवकी ने कंस से याचना करते हुए कहा कि मैं स्वयं अपने बालक को लाकर तुम्हें सौंप दूंगी, तुम्हारे देवर जो निर्दोष है उसे मारने से क्या लाभ होगा। कंस ने देवकी की बात मानी और वासुदेव और देवकी को मथुरा के कारागार में डाल दिया। कुछ समय जेल में रहने के बाद, देवकी और वासुदेव को एक संतान की प्राप्ति हुई। कंस को जैसे ही इस बात का पता चला, वह कारागार में आया और उस बालक को मार डाला। इसी तरह कंस ने देवकी और वासुदेव के सात पुत्रों को एक-एक करके मार डाला। जब आठवें बच्चे की बारी आई तो जेल में पहरेदारी दोगुनी कर दी गई। जेल में कई सिपाही तैनात थे। लेकिन उस दिन तैनात जवान थकान और नींद की कमी के कारण गहरी नींद में सो गए। आठवां पुत्र हुआ। उस दिन भारी बारिश हो रही थी। बालक श्रीकृष्ण को सूप में रखकर वासुदेव जी चले गए। यमुना को पार करके वे वृंदावन में नंद के घर पहुंचे। वासुदेव ने धीरे से द्वार खोला और अपने पुत्र को नंद और यशोदा के पास बिठा दिया। वे दोनों सो रहे थे। नंद की पुत्री को हाथों में लेकर वासुदेव ने नंद और यशोदा से क्षमा मांगी और मथुरा की ओर जाने लगे। कुछ घंटे बाद वह मथुरा जेल पहुंचा। सिपाही अभी भी सो रहे थे। जेल पहुंचते ही वह बेटी रोने लगी। चीख पुकार सुनकर जवानों की नींद खुल गई। जैसे ही कंस को यह खबर मिली कि देवकी ने एक बच्चे को जन्म दिया है, वह तुरंत कारागार में आ गया। कंस ने उसे छीन लिया और बेरहमी से मार कर फेंक दिया। कंश अब भय से मुक्त है। प्रात:काल नन्द और यशोदा अपनी पुत्री को न पाकर अत्यन्त दु:खी हुए और बहुत दिनों तक अपने गणों के साथ सब जगह ढूँढ़ते रहे। लेकिन उन्हें अपनी बेटी नहीं मिली। थक हार कर उसने तलाश बंद कर दी और उस बेटे को गोद ले लिया। जिसका नाम उन्होंने कृष्ण रखा, धीरे-धीरे समय बीता और श्रीकृष्ण बड़े हुए। गोकुल में गोपियों के साथ रास लीला करते हुए श्रीकृष्ण ने अपनी बांसुरी बजानी शुरू कर दी। गोकुल के सभी निवासी, पशु-पक्षी आदि उसकी बांसुरी की धुन सुनकर बहुत प्रसन्न होंगे और उन्हें यह ध्वनि बहुत पसंद आएगी। श्रीकृष्ण अपने मित्रों सहित दूसरों के घरों का माखन खाते थे। जिसके चलते गांव की महिलाएं कृष्ण की शिकायत लेकर यशोदा के पास गईं। गोकुल में श्रीकृष्ण राधा से प्रेम करते थे। श्रीकृष्ण का अज्ञातवास समाप्त हो रहा था। इसलिए श्रीकृष्ण और बलराम को शिक्षा के लिए उज्जैन भेजा गया। उज्जैन में दोनों भाई ऋषि सांदीपनि के आश्रम में शिक्षा और दीक्षा लेने लगे। उसी आश्रम में श्रीकृष्ण ने सुदामा से मित्रता की वे घनिष्ठ मित्र थे। इनकी दोस्ती के चर्चे दूर-दूर तक थे। शिक्षा के साथ-साथ अस्त्र-शस्त्र का ज्ञान पाकर वे वापस आ गए। एक दिन कंस को गुप्तचरों के माध्यम से पता चला कि उसका आठवां पुत्र जीवित है। दूसरी ओर, कृष्ण को यह भी पता चला कि उनके असली माता-पिता मथुरा में कैद हैं। कंस ने कृष्ण को मारने के लिए कई सैनिक भेजे, लेकिन कृष्ण और गोकुल के लोगों ने मिलकर उन सैनिकों को मार डाला। हर बार सैनिकों की असफलता से दुखी होकर कंस स्वयं श्री कृष्ण को मारने के लिए निकल पड़ा। दोनों के बीच युद्ध हुआ और श्रीकृष्ण ने कंस का वध कर फिर से उग्रसेन को मथुरा का राजा बना दिया। श्रीकृष्ण गोकुल में अपने माता-पिता से सुलह करके द्वारका चले गए। उन्होंने वहां द्वारका नगरी की स्थापना की और द्वारकानगरी के राजा बने। मध्य प्रदेश के धार जिले में अमझेड़ा नाम का एक कस्बा है। उस समय राजा भीष्मक का राज्य था। उनके पांच बेटे और एक बेहद खूबसूरत बेटी थी। उसका नाम रुक्मिणी था। उन्होंने खुद को श्री कृष्ण को समर्पित कर दिया था। जब उसे उसके दोस्तों से पता चला कि उसकी शादी तय हो गई है। तब रुक्मणी ने एक वृद्ध ब्राह्मण के हाथों श्रीकृष्ण के पास संदेश भिजवाया। श्रीकृष्ण को जैसे ही यह संदेश मिला, वे तुरंत वहां से चले गए। श्रीकृष्ण आए और रुक्मिणी का अपहरण कर द्वारकापुरी ले आए। शिशुपाल भी श्रीकृष्ण के पीछे-पीछे आया जिनका विवाह रुक्मिणी के साथ तय हुआ था। द्वारिकापुरी में श्रीकृष्ण और बलराम दोनों भाइयों की सेना तथा शिशुपाल की सेना से भीषण युद्ध हुआ। जिसमें शिशुपाल की सेना नष्ट हो गई। श्रीकृष्ण और रुक्मिणी का विवाह बड़ी धूमधाम से संपन्न हुआ। रुक्मणी का रुतबा श्रीकृष्ण की सभी रानियों में सबसे ऊपर था। श्रीकृष्ण महाभारत के युद्ध में धनुर्धर अर्जुन के रथ के सारथी भी बने थे। श्री कृष्ण ने युद्ध के दौरान अर्जुन को कई शिक्षाएं दी थीं, जो युद्ध लड़ने के लिए अर्जुन के लिए बहुत मददगार साबित हुईं। ये उपदेश गीता के उपदेश थे जो श्रीकृष्ण ने बताए थे। यह उपदेश आज भी श्रीमद्भागवत गीता के नाम से प्रसिद्ध है। भगवान श्री कृष्ण ने इस युद्ध में शस्त्र उठाए बिना ही इस युद्ध का परिणाम सुनिश्चित कर दिया था। महाभारत के इस युद्ध में अधर्म पर धर्म की जीत कर पांडवों ने अधर्मी दुर्योधन सहित पूरे कौरव वंश का नाश कर दिया था। दुर्योधन की माता गांधारी भगवान कृष्ण को अपने पुत्रों की मृत्यु और कौरव वंश के विनाश का कारण मानती थी। इसलिए इस युद्ध की समाप्ति के बाद जब भगवान कृष्ण गांधारी को सांत्वना देने गए, तब गांधारी ने अपने पुत्रों के दुःख से व्याकुल होकर श्रीकृष्ण को श्राप दिया कि जिस प्रकार आपस में लड़कर मेरा कौरव वंश नष्ट हो जाएगा, उसी प्रकार इस प्रकार तुम्हारा यदुवंश भी नष्ट हो जायेगा। इसके बाद श्रीकृष्ण द्वारका नगरी में आए। महाभारत युद्ध के करीब 35 साल बाद भी द्वारका बेहद शांत और सुखी थी। धीरे-धीरे श्री कृष्ण के पुत्र बहुत शक्तिशाली हो गए और इस तरह पूरा यदु वंश बहुत शक्तिशाली हो गया था। कहा जाता है कि एक बार श्रीकृष्ण के पुत्र सांब ने चंचलता से प्रभावित होकर ऋषि दुर्वासा का अपमान किया। जिसके बाद दुर्वासा ऋषि ने क्रोधित होकर सांबा को यदुवंश के विनाश का श्राप दे दिया। बलवान होने के साथ-साथ अब द्वारिका में पाप और अपराध बहुत बढ़ गए थे। अपनी प्रसन्न द्वारिका में ऐसा वातावरण देखकर श्रीकृष्ण बहुत दुखी हुए। उन्होंने अपनी प्रजा को प्रभास नदी के तट पर जाकर अपने पापों से छुटकारा पाने का सुझाव दिया, जिसके बाद सभी प्रभास नदी के तट पर गए, लेकिन दुर्वासा ऋषि के श्राप के कारण वहां सभी लोग नशे में धुत हो गए और आपस में बहस करने लगे। काम में लगा हुआ। उनकी बहस ने गृहयुद्ध का रूप ले लिया जिसने पूरे यदुवंश को नष्ट कर दिया। भागवत पुराण के अनुसार माना जाता है कि श्रीकृष्ण अपने वंश का विनाश देखकर बहुत व्यथित थे। उसकी पीड़ा के कारण ही वह वन में रहने लगा। एक दिन जब वह जंगल में एक पीपल के पेड़ के नीचे योगनिद्रा में आराम कर रहे थे, तो जरा नाम के एक शिकारी ने उनके पैर को हिरण समझ लिया और उन्हें एक जहरीला तीर मार दिया। जरा द्वारा चलाया गया यह बाण श्री कृष्ण के पैर के तलवे को भेद गया। जहरीले बाण के इस भेदन से श्रीकृष्ण की मृत्यु हो गई और कुछ दिनों के बाद श्रीकृष्ण की नगरी द्वारिका भी समुद्र में डूब गई।

Comments

  • No Comments
Log Out?

Are you sure you want to log out?