कविता (वंदना) Read Count : 102

Category : Poems

Sub Category : N/A
वर्ण अक्षर समूह रस छंद के प्रदाता,मंगल करण श्री गणेश को नमन है।
शुभ्र सिद्धि सदन वदन गजदंत जाके ,संग श्रुति शारदादि शेष को नमन हैं ।
हिमगिरि तनया तनय शुभ शील आप ,सहज सुशील वर वेश को नमन हेै।
मानस मराल मृदु मंजुल महेश गावे , पूरन पुराण चारो वेद को नमन है ।

Comments

  • No Comments
Log Out?

Are you sure you want to log out?