मेरा इश्क़ मुझे दगा %E Read Count : 48

Category : Poems

Sub Category : N/A
"हे इश्क़
तूने मुझे ठुकरा के फर्क बस इतना किया है ।
मेरे अश्रु दरियां डुबो देगें ।।
तुम्हारे केवल आंखों से निकल कर ओंठों तक समाप्त हो जायेगें ।।।
                        - अजय सिंह यादव
www.instagram.com/ajay_singh_yadav_63
www.twitter.com/AjaySin67493987

Comments

  • Feb 27, 2022

Log Out?

Are you sure you want to log out?