हनुमंता Read Count : 14

Category : Poems

Sub Category : N/A
ढांढस बन्हाई के जोहाई समुझाई के त शक्ति के भान उ करउलैं जमवंता ।
साहस न बाटे केहू तोहरा के रोके टोके छेके डाँड़ डहरी हो चाहे भगवंता ।
सिया सुधि लेहि आवा देरी ना लगावा त ले सगरे प पुल दु बनइहें अभियंता। 
पवन क पूत रउआ शिव जी क अंश बानी सूरज के तेज लबरेज हनुमंता ।

Comments

  • No Comments
Log Out?

Are you sure you want to log out?