ज़िंदगी Read Count : 40

Category : Stories

Sub Category : Fantasy
क्या करूँ अपने ग़मों का हिस्सेदार बना कर किसी को 
कोई बिना मुनाफ़े शामिल नही होना चाहता !!!


Comments

  • No Comments
Log Out?

Are you sure you want to log out?