साहब Read Count : 59

Category : Poems

Sub Category : N/A
इन वर्दियों में कौन से धागे लगाते हैं ।
गर्मियां वे  बस गरीबों पर दिखाते हैं ।

ठेलों  से  उठा  लेते  हैं वो  अंगूर के दाने ।
जैसे बाप का हो माल वैसे हक जताते हैं ।

सरपट बैठ जाते हैं दरोगा पांव में जाकर ।
इन्हें  सफेद  धागे  से  बने  कुर्ते नचाते हैं ।

गलतियां मुफ़लिस की थी हक मांगने आया ।
हर  इतवार  अब  साहब उसे थाने बुलाते हैं ।

गांधी की टंगी तस्वीर थाने मुस्कुराती है ।
गालियाँ साहब की उनको गुदगुदाती है ।

✍️ धीरेन्द्र पांचाल

Comments

  • No Comments
Log Out?

Are you sure you want to log out?