मुझे Read Count : 55

Category : Poems

Sub Category : N/A
इतनी मशक्कत से पाया है तुझे
भुलाना मत अब यादों से मुझे

हर रोज़ मोहब्बत- मोहब्बत करता है
कभी चूम के भी बता मुझे

कभी रात में छ्त पर आया करो न
चांद भी देखे चांद-सा चमकते तुझे

ये पहली मर्तबा इश्क़ है मेरा                                   •••dhruv
कभी ख़ुद से मिला मुझे
 
कहां जाऊँ दर्द से निज़ात के लिए
ज़रा अपने घर का पता तो दे मुझे

Comments

  • No Comments
Log Out?

Are you sure you want to log out?