दर्द ऐ जिंदगी Read Count : 23

Category : Poems

Sub Category : N/A
ऐसी भी क्या खता हुई मुझसे ऐ ज़िन्दगी,
तू इतना क्यूँ सता रही ।

माना मेरी ख्वाहिशें कुछ और है तुझसे,
मगर तू मजबुर तो नहीं ।

चाहा क्या ,पाया क्या कुछ मेल नहीं खाता ,
तू ही बता किस रास्ते ले जा रही ।

मुझे सब मिल जाए ,इसकी चाहत तो नहीं ,
 मेरे हिस्से का भी ना मिले ,ऐसा भी जायज़ तो नही।

कभी मेरा साथ भी निभा के तो देख ,
बत्तर से बेहतर बनाने मे हर्ज तो नहीं!

आ कभी पास मेरे,तेरी शिकायतें तो दूर करुँ,
इतनी बेतहाशा नाराज़गी , दोनों को ही मुक़्क़मल तो नहीं।।
 
                                                       - प्रतिज्ञा💕



Comments

  • No Comments
Log Out?

Are you sure you want to log out?