तिरंगा हमारा Read Count : 13

Category : Poems

Sub Category : N/A
ये तिरंगा हमारा गगन में उड़े !
प्रेम सौहार्द के इसमें मोती जड़े !

बनेगा भारत फिर से विश्वगुरु !
देख दुश्मन की आँखों में धूल उड़े !


आँखो में नक्शा भारत का बसता रहे !
ये तिरंगा जहां में चमकता रहे !

है यही आरजू बस यही कामना !
फक्र से इस जहां में फहरता रहे !

S.K.Barman 

Comments

  • Aug 16, 2021

Log Out?

Are you sure you want to log out?