नफरतों के दौर मे Read Count : 19

Category : Poems

Sub Category : N/A
इस दुपहरी में चलते-चलते तपती हुई 
हर किसी को घने वृक्ष की छांव चाहिए... 
इस नफरतों के दौर में घुमते- घुमते 
हर किसी को प्यार की बारिश चाहिए...

चाहे इस ज़मीन पर आदमी हो या न हो 
पर उस आसमान में मेरा परवर दिगार है 
इस दुनिया में झूठ से लबालब भरी है 
आज हर किसी को नेक दिल इंसान चाहिए


S.K.BRAMAN 

Comments

  • Aug 13, 2021

Log Out?

Are you sure you want to log out?