वक्त ने किया कुछ ऐसा Read Count : 29

Category : Poems

Sub Category : N/A
वक्त ने किया कुछ ऐसा हसीं सितम,
          के छोटी छोटी बात भी सीख गए हम,
अकेले में चलाना सीखा गया...
          अरे देखो ये तो लड़ना सीखा गया,
वक्त ने किया कुछ हसीं सितम
           के हर बात बारीकी से सीख गए हम,
साहस से एक जोश आ गया...
            लो भैया अब तो होश आ गया,
वक्त ने किया कुछ हसीं सितम...
            के हर बात के तजुर्बेबेदार बन गए हम ,
अच्छे से बुरे का परिचय दे गया...
            लो यह तो कुछ और ही विषय दे गया,
वक्त ने किया कुछ हसीं सितम...
             के बंदिसो में बंध से गए हम,
भय से मुक्त कर गया...
              ये तो लय युक्त कर गया,
वक्त ने किया कुछ हसीं सितम...
               छोटी छोटी बाते सिख गए हम,
भागना न सीखा कर सामना करना सीखा गया..
                ये तो हमे निडर बना गया,
वक्त ने किया..............!by |\/|/-\|\||_|

Comments

  • No Comments
Log Out?

Are you sure you want to log out?