कहीं हार न जाना साथी % Read Count : 29

Category : Poems

Sub Category : N/A
कहीं हार न जाना साथी रे....
                       चलते जाना ,बढ़ते जाना 
                                        पर रुकना नही साथी रे...
हालातो से उलछते जाना,
                         संभलते जाना ,पर टूट ना जाना 
                                                              साथी रे....
राहों पर अड़ सा जाना ,
                   पर राह को न मोड़ लेना,उसको न छोड देना
                                                               साथी रे....
कमल उंगे कीचड़ में पर रहे हमेशा बेदाग,
                                                  तू ये भूल न जाना 
                                                                 साथी रे..
मंजिल को पाने की कोशिश करना ,
                      पर अपनी पहली पहचान तू भूल न जाना
                                                                  साथी रे.
आए हजार मौके पर तू,
                             छोटा रास्ता (गलत) न अपनाना
                                                                  साथी रे.
फूल से एक गुण ले लेना , काटे होकर भी तू,
                                                  खिल कर दिखाना 
                                                                  साथी रे.
कही तू हार न जाना साथी रे.........
                                                
                                            ...Written by m@nu
                              

Comments

  • No Comments
Log Out?

Are you sure you want to log out?