Tu So Mat..... Read Count : 25

Category : Poems

Sub Category : N/A
रात को तू सो मत ,
   तू जाग तू अभ्यास कर ....
      तू प्रयास कर ,
          तू विफल होगा !
             तू निराश होगा पर !
               पर फिर भी तू प्रयास कर ......
                 रात को तू सो मत,
                    तू जाग तू अभ्यास कर ;
                       तू अडिग रह ,
                         तू संघर्ष कर और 
                           फिर तू प्रयास कर
                             तू शांत रह ....
                               तू मेहनत कर 
                                 फिर प्रयास कर 
                                   तू जीत गया 
                                     देख तू सीमा पर खड़ा हैं
                                        तू प्रयास कर...
                                           "रात को तू सो मत"
                                               जाग तू अभ्यास कर
                                                   तू प्रयास कर.....

Comments

  • No Comments
Log Out?

Are you sure you want to log out?