बीते पल Read Count : 14

Category : Poems

Sub Category : N/A

कभी हम थे बच्चों की टोली कभी  
एहसास न था मुझ पर  इतनी बड़ी जिमेदारी , सुबह खेलते दिन गुजर जाता, शाम को सोते रात गुजर जाती।

खेल खेल में भूख चली जाती,हमे पता नही होता हमनें कौन सी खेल खेली। मुझे कभी पता न था गुजरेगी पहाड़ों की टोली।।

बीत गए ओ पल जब मा कहा करती आओ बीटा खा लो एक पहर । दिन गुजरा रातें गुजर गई
हमें कुछ नही पता होता कब क्या करना? अब समझ मे आया तो ओ पल ही बीत गया।।

हम थे जब बच्चों की टोली ,स्कूल जाते जाते राह जाते सड़कों पर जब तक स्कूल पहुँचते तब तक हो जाती स्कूल में छूटी।।


न हमे ज्ञान था, न समझ, था फिर भी हम किसी खिलाड़ियों और विद्वानों से न था कम ।

Comments

  • आप इसे एक बार दोबारा पढ़ो और देखो इसमें बहुत सारी त्रुटिया दिखेंगी.....

    May 02, 2021

Log Out?

Are you sure you want to log out?