बस संवरती रहे Read Count : 20

Category : Poems

Sub Category : N/A
वो गरजती रहे , 
वो बरसती रहे ।
मेरी जान है वो याद मुझे करती रहे ।
ऐ खुदा तुझसे इतनी सिफ़ारिश मेरी ,
वो जहां भी रहे बस संवरती रहे ।।

हो ना हैरान वो , 
उसको एहसास दे ।
मैं भी खुश हूं यहां, बस तेरे वास्ते ।
जब भी मौका मिले ,अपनेपन से उसे ,
मेरी खातिर दुआएं भी करती रहे ।
वो जहां भी रहे बस संवरती रहे ।।

रौशनी दे गई , 
मोम सी गल गई ।
मुझको दरिया बना बर्फ में ढल गई ।
उसको जीना पड़े ना बंदिशों में कभी ,
कैद हो ना कभी वो महकती रहे ।
वो जहां भी रहे बस संवरती रहे ।।

✍️ धीरेन्द्र पांचाल

Comments

  • Apr 13, 2021

Log Out?

Are you sure you want to log out?