अनहोनी Read Count : 109

Category : Books-Fiction

Sub Category : Horror

कार अंधेरी रात के माध्यम से चलती है, यह चमकती हेडलाइट, आने वाले ट्रैफ़िक को चेतावनी देती है, रमेश ने इंजिन को और अक्सेलेरेट किया, कार की गति काफ़ी तेज़ हो गई ऐसा लग रहा है मानो वो हवा में उड़ रही हो, 800 - हॉर्स पावर की मक्लारेन एम-12 एक तेज़ रफ़्तार कार है जिसने 1960 के दशक में अनगिनत रेस जीती है । रमेश की ये मन पसंद कार उसे उसके दोस्त हेनरी ने बेची है, रमेश को कारों का बहुत शौक है, उसके बड़े से बंगले के बड़े से गैरेज में पहले से ही उसके मक्लारेन कलेक्शन की कई गाड़ियां मौजूद है। रमेश के पिता एक सफल बिज़नस मैन हैं इंग्लैंड में उनके पास यहां अरबों की सम्पत्ति है, रमेश उनका इकलौता लड़का है और मैं हूँ जेनिफर ब्राउन। रमेश की मंगेतर और होने वाली बीवी हम दोनों ने दो साल पहले ही सारे परिवार वालों की उपस्थिति में सगाई कर ली, मैं लंदन की रहने वाली हूँ मेरा भी पारिवारिक बिज़नस है जिसे मेरे पिता और भाई चलाते हैं । हम लोग इंग्लैंड के दौरे पर निकले हैं काफ़ी दिनों के बाद। हमने इंग्लैंड के छोटे कस्बों से होकर गुजरने का प्लान बनाया था ताकि वहां के लोगों का रहन सहन और व्यापार के लिए उचित स्थान देखते चलें। हम कई जगह से होते हुए गुज़रे और आज पूरा दिन होटल में आराम करने के बाद शाम को सफ़र करने का मन बनाया।




"थोड़ा धीरे चलाओ रमेश कहीं कोई गाड़ी के नीचे न आ जाए", मैंने रमेश की ओर देखते हुए कहा।


"घबराओ मत कुछ भी नहीं होगा, इस कार से बेहतर पकड़ और किसी कार में नहीं है", रमेश ने आश्वासन देते हुए कहा। 


"वो सब तो ठीक है लेकिन इसकी रफ़्तार कुछ ज़्यादा नहीं है", जेनिफर ने एक बार फिर से ऐतराज जताते हुए कहा। 


" ये तो इसकी नॉर्मल रफ़्तार है, अभी तो ये और रफ़्तार पकड़ सकती है ", रमेश ने जेनिफर की ओर देखते हुए कहा। 




रमेश ने जेनिफर की बातों पर ध्यान नहीं दिया और अपनी रफ्तार कम नहीं की। जेनिफर ये देख बार बार बोलती रह गई कि रफ़्तार कम करो पर रमेश ने कान में जैसे रूई ठूस ली हो। यह रमेश की कोई नई आदत नहीं है ऐसा उसने कई बार पहले भी किया था। जेनिफर और उसके बीच जब भी झगड़ा होता है तो उसकी सबसे बड़ी वजह यही है कि रमेश कभी सुनता नहीं है कि‍सी की। फिर भी इस बार जेनिफर ने इस बात पर ज़्यादा ध्यान नहीं दिया ताकि झगड़ा न हो। सफर लम्बा और थकाने वाला था। दोनों बीच में बोर न हों इसलिए एक दूसरे से किसी न किसी विशेष मुद्दे पर चर्चा करते जा रहे थे। 


तभी रमेश ने जेनिफर की ओर देखते हुए कहा "अच्छा जेनिफर वो वाली कहानी सुनाओ न जो तुमने कॉलेज टूर पर हमारे दोस्तों को सुनाई थी, रास्ता लम्बा है और इसे काटने के लिए कोई न कोई बातचीत तो होनी ही चाहिए, तुम्हारी कहानी सुनकर मुझे नींद भी नहीं आएगी और सफ़र भी आसानी से कट जायेगा", रमेश ने जेनिफर से अनुरोध किया और उसके अनुरोध को जेनिफर ठुकरा न सकी। 


" ठीक है मैं कहानी सुनाने को तैयार हूँ लेकिन मेरी भी एक शर्त है अपने कार की स्पीड थोड़ी कम कर दो ताकि मेरी घबराहट थोड़ी कम हो जाए और मैं तुम्हें आराम से कहानी सुना सकूँ ", जेनिफर ने मौके का फायदा उठाते हुए रमेश से कहा। रमेश उसकी बात मान गया और उसने अपनी रफ़्तार कम कर ली। ये देख जेनिफर के जान में जान आई और उसने अपनी कहानी को सुनाना शुरू कर दिया। 


" बात उन दिनों की है जब हमारी दुनिया में कंप्यूटर से ज़्यादा टाइप राइटर की औकात समझी जाती थी, हर सरकारी महकमों में उसकी इज़्ज़त कंप्यूटर से कम न थी, लोग शॉर्ट हैंड टाईपिंग का कोर्स करने में ख़ुद की इज़्ज़त महसूस करते थे, उन्ही दिनों एक लड़का जिसका नाम चार्ल्स था ख़ुद को एक महान लेखक के रूप में दुनिया के सामने प्रकट करना चाहता था। उसका एकमात्र सपना यही था कि वह अपने को एक लेखक बनता हुआ देखे इसके लिए उसने काफ़ी मेहनत की, वह दिन में काम करता और रात को पढ़ाई करता था इस तरह से उसने अपनी शिक्षा पूरी की थी, इसी तरह मेहनत से एक एक पाई जमा कर के उसने अपने लिए एक सेकंड हैंड टाइप राइटर खरीदने का फैसला किया, उसने अब तक काफी पैसा इकट्ठा कर लिया था। सो वह एक दिन पुराना टाइप राइटर खरीदने के लिए बेकर स्ट्रीट की पुरानी दुकान पहुंचा जो पुरानी ऐनटीक सामानों की खरीद और बिक्री के लिए मशहूर है। उसने वहाँ कई टाइप राइटर देखे पर उनमें से उसे कोई भी नहीं जमा, अंत में उसकी नज़र दूकान के एक कोने में रखे पुराने टाइप राइटर पर पड़ी, जो देखने में तो पुराना था पर उसमें एक अजीब सा आकर्षण था और उसी आकर्षण ने चार्ल्स को भी अपनी ओर खींच लिया। चार्ल्स ने उसे एक ही नज़र में पसंद कर लिया था इसलिए उसने उस टाइप राइटर को उठाया और सीधा काउंटर की तरफ़ बढ़ गया उसका सौदा तय करने के लिए। दुकान के मालिक से उसका सौदा तय होते ही चार्ल्स ने ख़ुशी से उसका मूल्य चुकाया और उसे लेकर अपने अपार्टमेंट की ओर बढ़ गया। 


चार्ल्स की खुशी का ठिकाना नहीं था, एक तरफ उसने इतनी मेहनत कर के पैसे जोड़े थे और अगर उन पैसों से ज़रूरत का सही सामान न मिले तो क्रोध आता है, लेकिन चार्ल्स को इस बात से निराश नहीं होना पड़ेगा क्यूँकि उन्ही पैसों से एक काम का सामान घर आया है इस बात की खुशी थी उसे। दूसरी ओर वह अपने मन में यह भी सोच रहा था कि इस टाइप राइटर से वह सबसे पहले किसकी कहानी लिखेगा और क्या लिखेगा। चार्ल्स मन ही मन ये सब कुछ सोच कर काफ़ी उत्सुकता का अनुभव कर रहा था। रास्ते में ही पड़ने वाली किताबों की दुकान से उसने काफ़ी ढेर से सादे पन्नों का बंडल भी ख़रीद लिया, बिना पन्ने के टाइप राइटर तो अधूरा ही था इसलिए अब जाकर चार्ल्स की खरीदारी पूरी हो गई थी और वह किसी भी चीज़ की परवाह किए बिना सीधा अपने अपार्टमेंट की ओर बढ़ रहा था। अपार्टमेंट में पहुँचते ही उसने अपने रूम का दरवाजा खोला और टाइप राइटर को अपनी स्टडी टेबल पर रख दिया। 


                              

टाइप राइटर 



यूँ तो चार्ल्स ख़ुद ही में रहने और अकेले समय बिताने वाला नौजवान था पर उसकी शख्सियत का एक दूसरा पहलू भी था और वह तभी सामने आता था जब उसकी मुलाकात उसके इकलौते दोस्त हॉवर्ड से हर शनिवार को होती थी। दोनों अपना वीकेंड मनाने के लिए बार मिलते और देर रात तक पीते थे लेकिन उसके लिए अभी दो दिन बाकि थे। चार्ल्स रात का डिनर करने के बाद अपने टाइप राइटर से नयी नॉवल के लिए कुछ पंक्तियाँ लिखने के लिए बैठ गया, वो सोच ही रहा था कि क्या लिखे इतने में उसने अपने पास रखी एक किताब पर नज़र डाली, उसे देखते ही उसे ख़याल आया कि क्यूँ न भूत कहानी लिखी जाए। आजकल के युवा पीढ़ी को ये बहुत पसंद आती है। वह लिखने के लिए अपनी उँगलियाँ टाइप राइटर पर रखता ही है कि टाइप राइटर मानो जैसे उसकी उँगलियों को ख़ुद ही अपने अक्षरों की तरफ़ खींच रहा हो और देखते ही देखते कागज़ के पन्ने पर टाइप होता है "वुड्स विला का भूत", चार्ल्स पहले तो थोड़ा घबरा सा जाता है, उसे ऐसा लग रहा था कि कोई उसके हाथों पर ज़बर्दस्त दबाव बनाए हुए है और अक्षर अपने आप टाइप हो रहे हैं, आगे टाइप होता है " 7 जुलाई 1908, रोज़ की तरह आज फिर मैंने उस अनजान साये को देखा", अब चार्ल्स सहम सा जाता है डर से उसके माथे पर पसीने की बूँदें उभर आईं थीं, वह दहशत में आकर तुरंत अपनी कुर्सी से उठ खड़ा होता है जिस वजह से कुर्सी कुछ दूर पीछे चली जाती है। चार्ल्स की समझ में नहीं आ रहा था कि उसके साथ क्या हो रहा है, टाइप राइटर पर कौन उसकी उंगलियों को अपने इशारे से नचा रहा है या फिर ये सिर्फ उसका वहम है। वह कागज़ के पन्ने को टाइप राइटर में उसी अवस्था में छोड़ देता है और कुछ देर के लिए अपने अपार्टमेंट की बालकनी में खड़ा होकर सिगरेट सुलगा लेता है ताकि थोड़ी राहत की सांस लेकर ध्यान से इस घटना पर विचार कर सके।


रात काफ़ी काली थी चाँद भी बादलों में कहीं छिप गया था सड़क और कॉलोनी में चारों ओर सन्नाटा सा छाया हुआ था, दूर दूर तक कोई नज़र नहीं आ रहा था।


" ठक... ठक... ठक... ठक ठक... ठक", किसी के चलने की आवाज़ सुनाई पड़ती है, चार्ल्स के कानों तक आवाज़ पहुंचने भर की देर थी कि उसे समझने में ज़्यादा देर नहीं लगती है कि यह किसी के बूट के हील्स की आवाज़ है।" कौन हो सकता है इतनी रात में शहर के गश्त पर निकला है," चार्ल्स अपने मन में यह सोच ही रहा था और अपने सिगरेट के कश का आनंद भी ले रहा था, अब चार्ल्स का ध्यान टाइप राइटर पर नहीं बल्कि उस अनजान कदमों की आहट पर केंद्रित हो चुका था, थोड़ी ही देर में दूर स्ट्रीट लाइट के थोड़ा सा आगे एक अनजान साया आकर खड़ा हो गया। लाईट के आगे खड़े होने की वजह से उस साये का चेहरा देख पाना मुश्किल था।




"कौन हो सकता है आखिर इतनी रात में, वो एक ही जगह पर खड़ा है, अपनी मंज़िल की तरफ आगे क्यूँ नहीं बढ़ रहा है, उसे आख़िर किसके घर जाना है, ऐसा लग रहा है मानो वो अनजान शख्स एक ही जगह पर खड़ा होकर मुझे ही देख रहा है", चार्ल्स अपनी बालकनी में खड़ा हो कर सिगरेट का कश लगाते हुए उस अनजान साये को देख कर अपने मन में सोचता है, अब चार्ल्स की नसों में डर समा गया था और वह एक ही जगह पर बुत बनकर खड़ा था। किसी नतीजे पर न पहुंच पाने की वजह से डरा हुआ चार्ल्स अपनी बची हुई सिगरेट फेंक सीधा अपने कमरे में चला जाता है और बिस्तर पर लेट कर इन्हीं घटनाओं के बारे में सोचने लगता है, सोचते ही सोचते उसकी पलकें भारी हों जातीं हैं और उसे नींद आ जाती है। 




अगले दिन सुबह होते ही चार्ल्स की नींद खुलती है, रोज़ की तरह वह सुबह उठकर ख़ुद के लिए ब्रेकफास्ट बनाता है और कॉफी का मग लेकर डाइनिंग टेबल पर बैठकर अखबार पढ़ते हुए नाश्ता करता है, नाश्ता ख़त्म करने के बाद वह अपने काम पर जाने के लिए तैयार होता है कि अचानक उसकी नज़र उसके स्टडी टेबल पर रखे टाइप राइटर पर पड़ती है, उसमें चार्ल्स द्वारा लगाया गया पन्ना पूरा टाइप हो चुका था, जिस पर लिखा था, 


" 7 जुलाई 1908, रोज़ की तरह आज फिर मैंने उस अनजान साये को देखा, मैं जहाँ भी जाती हूँ वह मेरा पीछा करता है, मेरा नाम मार्गरेट है और मैं " कॉटन मिल " में काम करती हूँ, पिछले दो दिनों से हर शाम अपना काम ख़त्म कर जब भी मैं अपने घर के लिए रवाना होती हूँ वह अनजान साया भी मुझे घर तक छोड़ने आता है। फिर चौराहे पर खड़ा होकर मेरे अपार्टमेंट को देखता रहता है, मुझे बहुत डर लगता है। अचानक ही कोई किसी का पीछा क्यूँ करेगा, आखिर उसका मकसद क्या है, वह अगर मुझे जनता है तो अजनबी बनकर पीछा क्यूँ कर रहा है सीधे मुलाकात क्यूँ नहीं करता , आखिर वो कौन हो सकता है... ", चार्ल्स अब काफ़ी परेशान हो चुका था, आखिर ये लेटर किसने टाइप किया होगा, मैंने तो बस पहली लाइन लिखी थी फ़िर ये पूरा पन्ना किसने भर दिया, अज्ञात डर ने चार्ल्स के मन में डेरा जमा लिया था क्यूँकि उसके साथ जो कुछ भी हो रहा था वह किसी को भी हिलाने के लिए काफ़ी था। फिर भी चार्ल्स ख़ुद पर काबू पाता है, वह उस टाइप लेटर को टेबल पर ही रख कर तैयार होने लगता है और अपने काम पर जाने के लिए निकल पड़ता है। रास्ते भर चार्ल्स के मन में यही उथल पुथल चल रही थी कि वह चिट्ठी आखिर कैसे लिखी गई होगी, क्या उस टाइप राइटर से किसी लड़की की आत्मा जुड़ी हुई है और अगर ऐसा है तो उस लड़की के साथ आगे क्या हुआ होगा, कहीं वो लड़की उसी अनजान साये का तो ज़िक्र नहीं कर रही थी जिसे मैंने पिछली रात देखा था, आखिर वह कौन हो सकता है और उस टाइप राइटर से उसका क्या संबंध हो सकता है, चार्ल्स रास्ते भर यही सोचता रहा उसका कार्य स्थल कब आ गया उसे ख़ुद ही पता न चला। 



टाइप राइटर - 2




शाम को अपना काम ख़त्म करते ही चार्ल्स अपने कार्य स्थल से नाइट क्लासेज की संस्था के लिए निकला, नाइट क्लास करने के बाद जैसे ही वह अपने अपार्टमेंट की ओर बढ़ रहा था उसने महसूस किया कि कोई उसका पीछा कर रहा है। पहले तो चार्ल्स ने इसे हल्के में लिया लेकिन फिर अगले ही पल उसे टाइप राइटर द्वारा उस टाइप किए हुए लेटर का ध्यान आ गया जिसमें भी शायद यही ज़िक्र था कि कोई उस लड़की का पीछा करता है। चार्ल्स के ज़हन में ये बात आते ही वह थोड़ा सतर्क हो गया और अपने कदमों को जल्दी जल्दी बढ़ाने लगा, लेकिन पीछा करने वाले ने भी उसी रफ्तार से पीछा किया। अब चार्ल्स बहुत ज़्यादा डरा हुआ था उसे डर का एहसास हो रहा था जो बिलकुल भी अच्छा नहीं था क्यूँकि डर एक नकारात्मक भावना है। डर संभावित खतरे के लिए एक सहज वृत्ति प्रतिक्रिया के रूप में सभी जानवरों और लोगों में पूर्व क्रमादेशित एक ऐसी भावना है। यह भावना हमेशा अनुकूली नहीं है। यह एक अच्छी भावना नहीं है; कोई आजादी, खुशी नहीं है। यह कई रूपों में प्रकट होता है। सबसे आम अभिव्यक्ति गुस्सा है। आपका जीवन डर से जीत के लिए एक संघर्ष है। डर के विपरीत, एकता के बारे में जागरूकता है। डर के सबसे शक्तिशाली जनरेटर मृत्यु की अवधारणा है। सामान्य भाषा मे किसी भी जीवात्मा अर्थात प्राणी के जीवन के अन्त को मृत्यु कहते हैं। मृत्यु सामान्यतः वृद्धावस्था, लालच, मोह,रोग,, कुपोषण के परिणामस्वरूप होती है। मुख्यतया मृत्यु के 101 स्वरूप होते है, लेकिन मुख्य 8 प्रकार की होती है। जिसमे बुढ़ापा, रोग, दुर्घटना, अकस्मती आघात, शोक,चिंता और लालच मृत्यु के मुख्य रूप है। लेकिन चार्ल्स को यहाँ लग रहा था कि उसका पीछा करने वाले ने शायद अपनी मृत्यु को नकार दिया था, यही कारण था कि चार्ल्स के मन में चल रहे इन विचारों ने उस अनजान साये के प्रति अपने अन्दर दहशत बैठा ली थी। 




अपने अपार्टमेंट के नज़दीक पहुंचते ही चार्ल्स को थोड़ी राहत का अनुभव हुआ, उसने पीछे मुड़कर देखा तो वह अनजान साया दूर चौराहे पर स्ट्रीट लाइट के नीचे खड़ा हो गया, चार्ल्स ने मौके की नज़ाकत को समझते हुए लपक कर अपने फ्लैट की ओर जाने वाली सीढ़ियाँ चढ़ी और अंदर प्रवेश करते ही उसने दरवाजे को बंद कर दिया, एक ग्लास ठंडा पानी पिया जिससे उसके शरीर में थोड़ी तरावट आई। अपने घर में चार्ल्स काफ़ी सुरक्षित महसूस कर रहा था, नहाने के बाद चार्ल्स ने खुद के लिए भोजन बनाया और उसे खाने लगा। खाना खत्म होते ही चार्ल्स ने सिगरेट जला ली और बैठकर आज घटित हुई घटना के बारे में सोचने लगा, अचानक उसके मन में एक विचार ने जन्‍म लिया, उसने सोचा कि अगर टाइप राइटर की कहानी सच्ची है जिसका प्रमाण वो अनजान साया है जो पीछा करता है तो टाइप राइटर और भी बहुत कुछ जानता होगा या ये भी हो सकता है कि यह सब कुछ टाइप राइटर की ही वजह से हो रहा हो, चार्ल्स कुछ देर के लिए टाइप राइटर को देखता रहा फिर उठकर उसमें एक नया पन्ना टाइप करने के लिए लगा दिया और अपने बेडरूम में सोने के लिए चला गया। 


"चार्ल्स... उठो चार्ल्स... चार्ल्स... चार्ल्स ये मैं हूँ हॉवर्ड, जल्दी उठो हमें एक ज़रूरी काम से जाना है", हॉवर्ड ने चार्ल्स को नींद से जगाते हुए कहा। 


"ओ... हो... सुबह इतनी जल्दी हो गई क्या, अभी अभी तो सोया था और हॉवर्ड तुम इतनी सुबह यहाँ कैसे, किसलिए", चार्ल्स ने नींद से जागते ही हॉवर्ड से उसके आने की वजह पूछी। 




" अरे यार एक बहुत ज़रूरी काम आ गया है, आज मेरे वर्क शॉप पर कोई भी कर्मचारी नहीं आया है और एक कॉफिन बॉक्स तय पते पर पहुंचाना है, क्या तुम मेरी मदद करोगे मैं तुम्हें इसके लिए अच्छी रकम दूँगा हर बार की तरह", हॉवर्ड ने चार्ल्स को सारा माजरा समझाया और उसे अच्छी रकम का लालच भी दिया। हॉवर्ड एक कॉफिन स्टोर का मालिक था, कई बार पहले भी वो चार्ल्स से अपने काम में मदद ले चुका था और इसके बदले में वह उसे अच्छे पैसे दिया करता था, इससे चार्ल्स को मदद भी मिल जाती थी क्यूँकि उसे अपने कार्य स्थल से महीने की बँधी हुई रकम मिलती थी। हॉवर्ड के लिए कभी कभी काम करने से उसकी ऊपरी आमदनी भी हो जाती थी। 




हॉवर्ड की बात सुनते ही चार्ल्स तुरंत उठ कर तैयार हो गया और तुरंत ही कुछ सैंडविच बना कर एक लंच बॉक्स में रख लिया रास्ते में खाने के लिए। दोनों अपार्टमेंट से अपनी मंज़िल की ओर निकल पड़े। रास्ते में सैंडविच खाते हुए चार्ल्स ने हॉवर्ड से कहा "अच्छा तुम्हारा ये काम 11 बजे से पहले हो जाएगा न, मुझे अपने कार्य स्थल से बस इतनी ही देर की छूट मिल सकती है", फिर चार्ल्स ने हॉवर्ड की ओर देखा, वह उसके जवाब का इंतजार कर था। हॉवर्ड उसकी बातों को सुनकर कुछ देर के लिए सोच में पड़ गया फ़िर उसकी ओर देखते हुए कहा" चिन्ता मत करो उससे पहले ही हमारा काम ख़त्म हो जाएगा, बॉक्स की डिलीवरी करते ही हमको हमारे पैसे मिल जाएंगे फ़िर मैं तुम्हें तुम्हारे अपार्टमेंट पर छोड़ दूंगा", हॉवर्ड ने वैन की स्टीयरिंग को घुमाते हुए उसे अश्वासन दिया और चार्ल्स के लंच बॉक्स से एक सैंडविच उठा ली। 


"चलो फ़िर तो कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन हमें जाना कहां है ", चार्ल्स ने राहत की साँस भरी और हॉवर्ड से डिलीवरी के पते के बारे में पूछा। 


"हमारी मंज़िल एक ही है "वुड्स विला", वहीं पर ये बॉक्स देना है", हॉवर्ड ने सैंडविच खाते खाते बड़े अजीब तरीके से चार्ल्स को कॉफिन बॉक्स डिलीवर करने का पता बताया। 




मंज़िल का पता चलते ही चार्ल्स के चहरे का रंग फीका पड़ गया, उसके अंदर डर ने एक बार फिर अपना घर कर लिया, उसके माथे से पसीने की कुछ बूंदे बहने लगीं। 


" वुड्स विला, ये तो वही नाम है जो टाइप राइटर ने टाइप किया था, क्या ये हक़ीक़त में है, वैसे अगर वो साया सच है तो वह विला भी, मौजूद होगा, शायद टाइप राइटर के बारे में भी कुछ जानकारी वहाँ पर मिल जाए, आखिर वहाँ पर किसकी मौत हुई होगी जो ये कॉफिन बॉक्स वहाँ जा रहा है, "चार्ल्स के अंदर वुड्स विला का नाम सुनते ही भय के साथ साथ अनेकों सवाल भी जन्म लेने लगे, वह इस कश़्मकश में बुरी तरह से उलझ सा गया था।




टाइप राइटर - 3



 "और कितना समय लगेगा वुड्स विला पहुंचने में", चार्ल्स ने हॉवर्ड से पूछा।


"बस पहुँचने ही वाले हैं", हॉवर्ड ने चार्ल्स के पूछे गए प्रश्न का उत्तर दिया।


चार्ल्स की बेचैनी बढ़ती जा रही थी, उसके अंदर इस बात को जानने की तीव्र इच्छा थी कि आखिर वैन में पीछे पड़ा कॉफिन किसके लिए जा रहा था जिसकी जानकारी हॉवर्ड को भी नहीं थी। इतने में हॉवर्ड उत्तेजित स्वरों में कहता है "वो देखो आ गया वुड्स विला", चार्ल्स विला की ओर जिज्ञासा पूर्वक देखता है, पुराना हो जाने के कारण उसके दीवारों पर कई जगह काई ने हरे रंग का कर दिया था, वुड्स विला काफ़ी बड़ी जगह घेरे हुए था जो ये साफ़ दर्शाता था कि उसके मालिक काफ़ी रईस थे । मेन गेट पर पहुंचते ही नीली वर्दी पहने चौकीदार ने गेट को खोला। हॉवर्ड ने वैन को विला की ओर धीरे धीरे ले जाना शुरू किया ताकि उस वुड्स विला के भव्य बगीचे को चार्ल्स भी अच्छी तरह से देख ले जिस पर गेट के अंदर प्रवेश करते ही हॉवर्ड की नज़र पड़ गई थी , जिसमें केवल काले गुलाब खिले हुए थे जिनकी भीनी मीठी सुगंध का आनंद उनकी नाक ने लेना शुरू कर दिया था। इतना मनमोहक दृश्य कभी कभी ही देखने को मिलता है जिसका आनंद चार्ल्स और हॉवर्ड दोनों ले रहे थे, बगीचे के बीच बीच में सुंदर परियों की मूर्तियां बनी हुई थी, पर चार्ल्स को इस बात का ताज्जुब हुआ कि विला की ओर जाती सड़क के एक हिस्से में बेशुमार काले गुलाबों के बीच में मेल एंजेल्स और सड़क के दूसरी तरफ फ़ीमेल एंजेल्स की मूर्तियां थीं जिन्हें सफेद संगमरमर से बनवाया गया था।




"देखा चार्ल्स पैसा हो तो इंसान क्या क्या नहीं कर सकता है, देखो इसे कहते हैं जन्नत जैसा बगीचा, मैंने तो आज तक ऐसा सुंदर बगीचा नहीं देखा, यहां का मालिक काफ़ी रईस और शौकीन लगता है", हॉवर्ड ने चार्ल्स की ओर देखते हुए कहा, चार्ल्स ने भी उससे सहमति जताई और बाहर की ओर देखते हुए कहा "सुंदर तो है लेकिन एक बात बड़े हैरत की यह है कि सड़क के एक तरफ़ पुरुष और दूसरी तरफ महिला एंजेल्स की मूर्तियां हैं ऐसा क्यूँ है ", चार्ल्स ने अपनी आशंका जताई और हॉवर्ड की ओर देखने लगा। 


"अरे इतना सोचने वाली बात नहीं है, ये एक स्टाइल हो सकता है बगीचे को सजाने का इसमें इतना हैरान करने वाली कौन सी बात है ", हॉवर्ड ने चार्ल्स को समझाते हुए कहा। 




दोनों सुंदर नज़ारे को देख उसकी प्रशंसा करते हुए जा ही रहे थे कि चार्ल्स की नज़र बगीचे के बीचोंबीच कुछ खाली स्टैंड थे जो सफेद संगमरमर के बने हुए थे लेकिन उन पर अभी तक मूर्तियां स्थापित नहीं की गई थीं। 




" ये देखो चार्ल्स यहाँ से खाली पड़े मूर्तियों के स्टैंडस शुरू हो जाते हैं और ऐसा ही तुम्हारी तरफ के बगीचे में महिला एंजेल्स की मूर्तियों के बाद खाली पड़े है , इसका मतलब है अभी भी इस बगीचे में काम चल रहा है जिसमें मेल एंजेल्स और फ़ीमेल एंजेल्स की कमी है", चार्ल्स ने हॉवर्ड से कहा। 


"हो सकता है अभी काम थोड़ा बाकी है, काफ़ी 


पैसा खर्च किया है इस बगीचे पर, " हॉवर्ड ने चार्ल्स से कहा।




कुछ ही देर बाद दोनों मेन डोर की सीढ़ियों के सामने वैन को पार्क करते हैं। दोनों वैन से बाहर निकल कर सीढ़ियाँ चढ़ डोर बेल बजाते हैं जो एक पुरानी सुनहरी घण्टी थी जिस पर मकड़े ने अपना जाल बना रखा था जिसे देख कर इस बात का अंदाज़ा हो रहा था कि उस घण्टी का इस्तेमाल कई वर्षों से नहीं किया गया था।




"चर्रररररररर", वुड्स विला का पुराना दरवाज़ा खुलता है अंदर से एक पचास वर्षीय सुंदर महिला काले स्कर्ट और टॉप में बाहर निकल कर आती है। उसके चेहरे से उसकी उम्र का अंदाज़ा लगा पाना मुश्किल था, उसने आँखो पर काला चश्मा लगा रखा था। 


"क्या आप ही मिस्टर हॉवर्ड हैं, कॉफिन स्टोर के मालिक, मेरा ऑर्डर किया हुआ कॉफिन लाएं हैं", उस अधेड़ उम्र की महिला ने हॉवर्ड की ओर देखते हुए पूछा। उस महिला ने बिना हॉवर्ड से मिले ही पहचान लिया था कि वह कौन है, चार्ल्स को ये देख कर हैरत हुई पर हॉवर्ड ने इस बात पर ध्यान नहीं दिया। 




"जी हाँ मैडम, बताइए कहाँ रखना है", हॉवर्ड ने उस महिला ने उस महिला को जवाब दिया।


"ले आइए वैन से निकाल कर और मेरे पीछे आइए ", महिला ने आदेश दिया।


हॉवर्ड और चार्ल्स वैन की ओर चल दिए खाली कॉफिन लेकर आने के लिए। वो अनजान महिला उनका इंतजार कर रही थी। दोनों शीघ्र ही वैन से कॉफिन लेकर महिला के पीछे पीछे चल दिए। वुड्स विला अन्दर से पुराने म्युजियम की तरह लगा चार्ल्स को, काफ़ी बड़ा हॉल था जिसमें दायीं ओर एक बड़ी लाइब्रेरी थी, दीवार पर हर जगह जानवरों के कटे हुए सिरों की ट्राफियां टंगी हुई थी । ऐसा लगता था जैसे किसी बड़े शिकारी का घर हो। हॉल के बीचोंबीच एक सीढ़ी थी जो ऊपर के कमरों की ओर जाती थी। 


"वहाँ उस टेबल पर रख दो," उस महिला ने उनसे कहा और हॉल के बायीं ओर रखी एक बड़ी टेबल की तरफ़ इशारा किया। दोनों ने कॉफिन उस टेबल पर रख दिया। चार्ल्स ने उस महिला की ओर देखते हुए पूछा "यहाँ किसकी डेथ हो गई है मैडम", चार्ल्स की बेचैनी इस बात को जानने के लिए उसे रोक न पाई। 


" मेरी टाइपिस्ट की, आज अचानक ही उस लड़की का निधन हो गया, अच्छी खासी थी पता नहीं क्या हो गया, अभी महज बाइस साल की ही थी, उसके घरवालों को खबर कर दिया है," उस महिला ने जवाब दिया। 


" कोई बीमारी होगी मैडम, कभी कभी सेहत से पता नहीं चलता है, हो सकता है दिमागी बुखार हो ", हॉवर्ड ने महिला से कहा। 


" इस वुड्स विला के मालिक और मेरे पति मिस्टर जेम्स वुड के निधन हो जाने के बाद मैं बिलकुल अकेले पड़ गई थी, इस अकेलेपन को दूर करने के लिए मैंने सोचा कि चलो एक नॉवल ही लिख लेती हूँ इसलिए अख़बार में इश्तेहार निकलवाकर एक टाइपिस्ट को नौकरी पर रखा था लेकिन उसकी भी मौत हो गई, अभी तो मेरी नॉवेल आधी भी नहीं हुई थी कि उसके पहले ये हादसा हो गया, ख़ैर ये लो अपने कॉफिन के तय की गई रकम ", मिसेस वुड्स ने उनसे कहा और अपने बटुए से रकम निकाल कर उसकी ओर बढ़ा दिया। हॉवर्ड ने महिला से रकम ले ली और उन्हें गिनने लगा। 


                     To Be Continued...                             ©ivanmaximusedwin


टाइप राइटर - 4


"वैसे अगर आप को कोई एतराज़ न हो तो एक बात कहना चाहूंगा मैडम", चार्ल्स ने मिसेस वुड्स की ओर देखते हुए कहा।

"बात सुनने से पहले मैं कैसे एतराज़ जाता सकती हूँ, बेझिझक बोलिए", मिसेज वुड्स ने चार्ल्स की ओर देखते हुए कहा।

"आपका बगीचा काफ़ी सुंदर है, उसे देखते ही किसी जन्नत का अनुभव होता है, बेशुमार काले गुलाबों के बीच लुभावने अंदाज़ में जो एंजेल्स की सफेद मूर्तियां हैं उनसे नज़रें हटाने का दिल नहीं करता है, ये भी आपके स्वर्गीय पति मिस्टर जेम्स वुड ने ही बनवाया था क्या", चार्ल्स ने बगीचे की तारीफ करते हुए मिसेज वुड्स से उस बगीचे को बनवाने वाले के बारे में भी पूछ लिया।

" नहीं ये बगीचा मैंने बनवाया है, मुझे काले रंग से बेहद लगाव रहा है इसलिए बगीचे में हर किस्म के काले गुलाब हैं जिन्हें कई देशों से मंगवाया गया है , काले गुलाब से भी मेरे अतीत की कुछ यादें जुड़ी हैं, वो लम्हे जो मैंने और मिस्टर वुड्स ने खुशी से साथ बिताए थे, बस यही वजह है कि गार्डन में हर जगह काले गुलाब ही हैं और सफ़ेद संगमरमर की मूर्तियां भी मॉडल को पैसे देकर बनवाई गई हैं ", मिसेज वुड्स ने चार्ल्स को सारी बातें अच्छी तरह से समझाते हुए कहा।

" ओह! तो इसमें काफी पैसा खर्च हुआ होगा मैडम और अभी तो इसमें काम बाकी है ", चार्ल्स ने मिसेज वुड्स की ओर देखते हुए कहा। 

अब मिसेज वुड्स के भाव थोड़े गंभीर हो गए थे, ऐसा लग रहा था कि मानो काले चश्मे के पीछे से मिसेज वुड्स की आँखे चार्ल्स को बड़े ध्यान से देख रही थी, " हाँ अभी काम बाकी है गार्डन का भी और मेरी नॉवेल का भी, अब कोई नया टाइपिस्ट ढूंढना पड़ेगा", मिसेज वुड्स ने चार्ल्स की ओर देखते हुए कहा। 

"अब हम चलना चाहेंगे मैडम", हॉवर्ड ने दोनों के बीच हो रही बातचीत को काटते हुए कहा। 

"आह! इतनी जल्दी भी क्या है, अगर आप दोनों युवकों को कोई परेशानी न हो तो क्या आप मेरी टाइपिस्ट की लाश को इस कॉफिन में रखने में मदद करेंगे, प्लीज़, मैं मदद के लिए चौकीदार को भी बुला लेती हूँ, " मिसेज वुड्स ने दोनों की ओर देखते हुए अनुरोध किया। 

"अरे नहीं मैडम हमारा काम हो गया, हम चलते हैं ", हॉवर्ड ने मिसेज वुड्स को साफ़ इन्कार कर दिया, वह शायद लाश को हाँथ नहीं लगाना चाहता था। 

" अरे नहीं ऐसी कोई बात नहीं है हम आपकी मदद करने को तैयार हैं," चार्ल्स ने मिसेज वुड्स से कहा और अपने दाएँ हाथ से हॉवर्ड का हाथ मान जाने के लिए दबा दिया। 

" ओह... मुझे बड़ी खुशी हुई ये जानकर कि आप दोनों मदद के लिए तैयार हो गए हैं, क्या आप में से एक बाहर के चौकीदार को बुला लाएगा, प्लीज़, आज यहाँ वुड्स विला में ज़्यादा तर नौकर काम पर नहीं आये हैं और जो थे उन्हें मैंने चर्च और जानने वालों के यहाँ ख़बर करने के लिए भेज दिया है ", मिसेज वुड्स ने अपनी मजबूरी व्यक्त की, जिसे सुनकर दोनों को उनकी मजबूरी का अंदाज़ा हुआ, शायद यही वजह थी कि इनकार कर देने वाले हॉवर्ड ने ही मदद के लिए बाहर जाकर चौकीदार को बुलाना उचित समझा और वह विला में चार्ल्स को मिसेज वुड्स के साथ अकेला छोड़कर चला गया। 


"इस समय आपके साथ इस विला में और कौन कौन रहता है नौकरों को छोड़कर, मैडम", चार्ल्स ने मिसेज वुड्स से बेझिझक पूछा। 

"मैं और मेरी टाइपिस्ट ही रहते थे यहाँ, चूँकि नॉवेल लिखने का मामला है इसलिए ज़्यादा भीड़ भाड़ मुझे पसंद नहीं, कहानी किसी ने चूरा ली तो फिर क्या होगा, आज कल रईस लोग अपनी कहानियों को कॉपी राइट कर लेते हैं, मैंने इसलिए सभी को आने जाने से मना कर रखा था नौकरों को छोड़कर ", मिसेज वुड्स ने दुबारा गंभीर हो कर कहा, चार्ल्स को ऐसा प्रतीत हुआ कि वह उसे काले चश्मे के पीछे से बुरी तरह घूर रहीं थीं। 

" तो किस किस्म का नॉवेल लिख रहीं हैं आप, मैडम", चार्ल्स ने एक बार फिर सबकुछ नज़र अंदाज़ करते हुए मिसेज वुड्स से पूछा। 

" आह! मेरी कहानी एक अंधेरी दुनिया की सच्ची घटना पर आधारित है," मिसेज वुड्स ने राहत की ठण्डी साँस भरते हुए जवाब दिया। फिर उन्होंने पास ही रखी एक टेबल पर सिगरेट का केस उठाया जो लकड़ी का बना हुआ था और उसके बगल में ही एक लाइटर भी रखा हुआ था। 

उधर हॉवर्ड जो चौकीदार को मदद के लिए बुलाने निकला था अब उसे गार्डन को पूरा पार कर के जाना था जिसके मध्य में कंक्रीट की सड़क बनी थी, हॉवर्ड ने सोचा इतनी सी दूरी के लिए वैन को क्यूँ तकलीफ दी जाए इसलिए उसने पैदल चलने का निर्णय किया, उसे लगा कि इसी बहाने एक बार फिर अच्छे से इस भव्य सुंदर बगीचे के दर्शन हो जाएंगे। हॉवर्ड धीरे धीरे आगे बढ़ता है विला से गार्ड्स चेक पोस्ट की दूरी ज़्यादा थी, ऊपर से इंग्लैंड का रंग बदलता मौसम, हॉवर्ड अभी कुछ दूर चला ही था कि इतने में काले बादलों ने सुरज के प्रकाश को ढक लिया और आसमान में तेज़ बिजली कड़की, बिजली कड़कने की आवाज़ इतनी तेज़ थी कि अच्छे अच्छों का दिल दहल जाए, लेकिन फिर भी हॉवर्ड ने हिम्मत नहीं हारी उसने चलते चलते गार्ड को आवाज़ देना शुरू कर दिया, चार्ल्स को एक बात की राहत मिली कि बरसात ने अपना कहर बरसाना शुरू नहीं किया था पर फिर भी आंधी जैसी तेज़ हवाएँ बह रही थीं जिनकी वजह से हॉवर्ड को ठीक से देखने परेशानी हो रही थी। पर फिर भी हॉवर्ड आगे बढ़ता रहा तेज़ हवाएं बहने के कारण बेशुमार काले गुलाबों की तेज़ मीठी सुगंध ने पूरे वातावरण को अपनी खुशबु से महका रखा था, हॉवर्ड ने उन गुलाबों से भरे बगीचे के ऊपर एक नज़र डाली, आँधी का भी उन गुलाबों पर कोई असर नहीं हो रहा था, वह केवल हवा से इधर-उधर झूल रहे थे, इतने में अचानक "हॉवर्ड... हॉवर्ड... ओह मेरे प्यारे हॉवर्ड", हॉवर्ड को एक अनजान महिला की आवाज़ पीछे से पुकारती है। पहले तो हॉवर्ड उस अवाज़ को ज़ोर की हवा बहने के कारण सुन नहीं पाता है और आगे बढ़ता ही रहता है , पर फिर भी आवाज़ का आना बंद नहीं होता है "हॉवर्ड... हॉवर्ड... ही ही ही... हॉवर्ड इधर देखो प्यारे हॉवर्ड... ही ही ही ही ही... ही ही ही ही ही", एक बार फिर से उस मधुर मदमस्त कर देने वाली आवाज़ ने अपनी हंसी के साथ हॉवर्ड को पुकारा। अब हॉवर्ड ने अपने कदम रोक लिए और एक बार फिर से उस आवाज़ के पुकारने का इंतजार करने लगा।


हॉवर्ड को अब भी अपने कानों पर यकीन नहीं हो रहा था, उसने जो सुना वह विश्वास करने योग्य बिलकुल भी नहीं था। हॉवर्ड अब डरा हुआ था और डर ने ही उसे प्रतिक्रिया दिखाने से मना कर दिया था। 



टाइप राइटर - 5


"आपकी टाइपिस्ट का नाम क्या था, मैडम", चार्ल्स ने मिसेज वुड्स से पूछा।

"ओ, उसका नाम कैथरीन था, मैं उसे मिस ब्राउन कह कर बुलाती थी, वह एक बहुत प्यारी और ज़िंदा दिल लड़की थी, हर सन्डे चर्च जाया करती थी, सभी से प्रेम भाव से मिलती थी, पता नहीं ऊपर वाला अच्छे लोगों को इतनी जल्दी अपने पास क्यूँ बुला लेता है", मिसेस वुड्स ने चार्ल्स की ओर देखते हुए कहा और साथ ही सिगरेट केस से एक सिगरेट निकाल कर जला ली और राहत का धुआं अपने अंदर खींच कर बाहर छोड़ा। फिर सामने पड़े एक सिंगल सोफ़ा पर बैठ गईं। 

" आप भी बैठ क्यूँ नहीं जाते हो , काफ़ी देर से खड़े हो थक जाओगे, तुम्हारे दोस्त को भी आने में अभी वक़्त लगेगा", मिसेस वुड्स ने चार्ल्स की तरफ़ देखते हुए तथा अपने दूसरे हाँथ से खाली सोफ़ा की ओर इशारा करते हुए कहा। चार्ल्स उनकी बात मान गया और एक खाली सोफ़े पर बैठ गया। 

" लगता है बाहर काफ़ी तेज़ हवाएं चल रही हैं ", चार्ल्स ने बातचीत आगे जारी रखते हुए कहा। 

" हाँ, शायद इस वजह से आपके दोस्त को चौकीदार बुलाने में ज़्यादा वक़्त लगे, मिसेस वुड्स ने चार्ल्स की बात पर हामी भरते हुए कहा। 

" मैडम, आपके गार्डन में फ़ीमेल एंजेल्स और मेल एंजेल्स की मूर्तियां अलग अलग क्यूँ बनी हैं, जबकि म्यूज़ियम और कई लंदन की कई बड़ी जगह पर यही मूर्तियां आलिंगन करते हुए बनवाई गई हैं", चार्ल्स ने मिसेस वुड्स से उनके बगीचे के बारे में एक और प्रश्न पूछ डाला। 

मिसेज वुड्स चार्ल्स को फिर से एक बार ध्यान से देखने लगीं और थोड़ी देर की खामोशी के बाद बोलीं" दरअसल मेरे बगीचे के एंजेल्स कभी आपस में मिल नहीं पाए इसलिए अलग अलग बनवाए गए हैं ", मिसेस वुड्स का बेरूखी भरा जवाब सुनकर पहले तो चार्ल्स थोड़ा घबरा सा गया फिर ख़ुद को संभालते हुए बोला "मैं कुछ समझा नहीं", उसने सबकुछ जानते हुए भी अनजान बनने का नाटक किया। 

"मेरा मतलब यह है कि इन मूर्तियों को अलग अलग ही बनवाया गया है, मैं नहीं चाहती थी कि कोई ये समझे कि ये लंदन के म्यूज़ियम से या अन्य किसी जगह की मूर्तियों से मेल खाती हैं", मिसेस वुड्स ने बड़ी चतुराई से चार्ल्स से हक़ीक़त को छुपा लिया, उनके चेहरे के भाव से चार्ल्स को इस बात का ज़रा भी अंदाज़ा नहीं लग पाया कि वह झूठ बोल रही हैं। 

" क्या मैं आपका टाइप राइटर देख सकता हूँ, मैडम, मुझे भी टाइपिंग में काफ़ी रूचि है, मैंने हाल ही में एक नया टाइप राइटर खरीदा है, मैं आपके टाइप राइटर को देखने के लिए काफ़ी उत्सुक हूँ," आखिर कार चार्ल्स ने हिम्मत करके मिसेस वुड्स से वह प्रश्न पूछ ही लिया जिसे वह काफ़ी देर से पूछने के लिए व्याकुल हो रहा था, उसके मन में इस बात की शंका हो रही थी कि कहीं वह टाइप राइटर इसी वुड्स विला से तो नहीं जुड़ा है जिसे वह ख़रीद कर लाया है।

मिसेज वुड्स के चेहरे के भाव और ज़्यादा गंभीर हो गए थे पर उन्होंने उन्हें कुशलता पूर्वक अपनी ज़हरीली मुस्कान के पीछे छुपा लिया और खड़े होकर चार्ल्स को अपने पीछे आने का इशारा करते हुए बोलीं "आइए मेरे साथ", मिसेज वुड्स चार्ल्स को अपने स्टडी रूम की तरफ़ ले जा रहीं थीं जहाँ पर उनका टाइप राइटर रखा हुआ था। 




"ये देखिए, ये रहा मेरा टाइप राइटर, मैंने इसे कई साल पहले खरीदा था, पर इसके रख रखाव का मैं विशेष ध्यान रखती हूँ इसलिए आज भी वैसा ही दिखता है ", मिसेस वुड्स ने चार्ल्स को अपने स्टडी रूम में ले जाकर टाइप राइटर दिखाते हुए कहा। 

चार्ल्स को टाइप राइटर देख कर बड़ी हैरानी हुई, वह बिलकुल नया जैसा दिखता था पर चार्ल्स के पास जो टाइप राइटर था वह काफ़ी पुराना था इसलिए चार्ल्स ने अपना शक़ दूर करने के लिए उनसे एक प्रश्न और पूछ डाला "क्या इससे पहले भी आपके पास कोई दूसरा टाइप राइटर था। 

मिसेस वुड्स ये सुनकर अपनी जगह पर ही जम सी जाती हैं और उनके चेहरे का रंग अब सफेद सा पड़ गया था पर अपने भावों को उन्होंने चार्ल्स के सामने प्रकट होने नहीं दिया," नहीं इससे पहले मेरे पास और कोई टाइप राइटर नहीं था और अब अगर आपकी तहकीकात हो गई हो तो हॉल की ओर चलें ", मिसेज वुड्स ने अपने काले चश्मे के पीछे से चार्ल्स को घूरते हुए कहा। 


"वैसे काफ़ी देर हो गई है अब तक तो हॉवर्ड को मदद के लिए चौकीदार को बुला लेना चाहिए था ", चार्ल्स को मिसेस वुड्स के जवाब से उनके मन के भाव कुछ हद तक पता चल गए कि वह ज़्यादा दखलंदाजी पसंद करने वाली महिला नहीं है इसलिए चार्ल्स ने बात को घुमाना ही उचित समझा और हॉल की तरफ प्रस्थान करने लगा। 


उधर हॉवर्ड उस रहस्यमयी पुकार सुनकर रुका हुआ था कि अचानक एक बार फिर से एक अनजान आवाज़ ने उसे पीछे से पुकारा "ओ मेरे प्यारे हॉवर्ड... पीछे मुड़ कर मुझे देखो... मैं कब से तुम्हारा इंतज़ार कर रही थी", हॉवर्ड के कान खड़े हो गए तीसरी बार उसे पुकारने वाले को सुनकर, उसे समझ नहीं आ रहा था कि उसे पीछे से आवाज़ किसने लगाई थी, एक तरफ उसके भीतर से आवाज़ आ रही थी कि वह पीछे मुड़कर पुकारने वाले को देखे वहीं दूसरी ओर उसका दिमाग कह रहा था कि" पीछे मुड़कर मत देखना, यह मौत का एक छलावा है आगे बढ़ते रहो और सीधा गेट कीपर की छावनी तक पहुँच जाओ"। हॉवर्ड को निर्णय लेने में मुश्किल हो रही थी उतनी ही मुश्किल जितनी उसे तेज़ हवाओं के बहने के कारण देखने में हो रही थी। गार्डन के बीचोंबीच खड़ा हॉवर्ड अब असमंजस में पड़ चुका था कि क्या करना चाहिए। 

कुछ देर बाद उसने इस बात को अपना वहम न मान कर पीछे पलटने का फैसला किया, उसने अपने दिमाग की न सुनकर दिल की सुनने का फैसला किया, दिल के उस हिस्से की बात जो अंधकार से भरा हुआ है, जहाँ डर का निवास होता है और इसी डर ने अपना खेल खेलना शुरू कर दिया था। पीछे पलटने पर क्या अंजाम होने वाला था ये तो हॉवर्ड ने कभी सोचा भी नहीं था इसलिए शायद उसका दिमाग ऐसा करने से उसे मना कर रहा था। 

                             

                          To be continued...                            ©ivanmaximusedwin 




टाइप राइटर - 6


"लगता है काफ़ी देर लगेगी हॉवर्ड को आने में, मैं ज़रा देख कर आता हूँ", चार्ल्स ने मिसेस वुड से कहा।


"आ ही जाएगा...जाएगा कहाँ , तुम इतना परेशान न हों, तुम कुछ टाइप करने के बारे में कह रहे थे ये बताओ कि तुम क्या टाइप करते हो, मिसेस वुड ने चार्ल्स से पूछा । 


" मैं भी एक नॉवेल ही लिखना चाहता हूँ लेकिन अब तक कुछ सोचा नहीं था, पर कुछ दिनों पहले ही मेरे मन में रोमांटिक नॉवेल लिखने का ख्याल आया था," चार्ल्स ने बड़ी चतुराई के साथ मिसेस वुड से झूठ बोल दिया। 


"ये तो बहुत खुशी की बात है, तुम काफ़ी रोमानी मालूम पड़ते हो, अच्छा है रोमांटिक कहानियाँ भी काफ़ी दिलचस्प होती हैं अगर उन्हें अच्छे से प्रस्तुत किया जाए ", मिसेस वुड ने चार्ल्स से कहा। 


" आप तो अंधेरी दुनिया के बारे में लिखती हैं, ज़रा उसके बारे में भी खुल कर बताइए, मैडम ", चार्ल्स ने मिसेस वुड से अनुग्रह किया। 


" मेरा नॉवेल काफ़ी डरावना है, क्या तुम्हें डर लगता है क्यूँकि मेरी कहानियाँ सच्ची होतीं हैं, या यूँ कह लो मैं सत्य ही लिखवाती हूँ , आओ मेरे साथ मैं तुम्हें एक सत्य से अवगत कराती हूँ ", मिसेस वुड ने चार्ल्स से कहा और उसे अपने पीछे आने का इशारा किया। 




उधर हॉवर्ड ने पीछे मुड़कर देखने का फैसला किया और अपनी बंद आँखे खोल दीं, हॉवर्ड ने जो देखा उस पर उसका यकीं कर पाना मुश्किल था, या उसकी आँखों ने धोखा दे दिया था जो हक़ीक़त में वह दृश्य सुबह के समय देखा, तेज़ धूल भरी हवाओं के बीच, एक खूबसूरत महिला खड़ी थी, जो ख़ुद को धूल के बादल से घेरे हुए थी ताकि कोई दूसरा उसे देख न सके, उसने काले रंग के वस्त्र धारण कर रखे थे, 




वह उस बगीचे के काले गुलाब की तरह लग रही थी, उसके बाल हल्के भूरे रंग के थे, लेकिन चल रही तेज़ हवाओं का उस के नज़दीक कोई असर नहीं हो रहा था ऐसा लग रहा था कि उसके आसपास का समय बिलकुल रुक सा गया है। हॉवर्ड उसके हुस्न पर मोहित हो गया और धीरे धीरे उसके नज़दीक बढ़ने लगा। हॉवर्ड ने अपने जीवन में उससे ज़्यादा सुंदर महिला पहले कभी नहीं देखी थी, वह उसके हुस्न को देख कर सब कुछ भूल सा गया था। उसे यह भी याद नहीं रहा कि वह किस काम से निकला था। वह उस महिला की ओर बढ़ते हुए उसकी आँखो को देख रहा था जिनमें झील सी गहराई थी। हॉवर्ड की तरफ़ देखते हुए वह महिला मुस्कुरा रही थी, हॉवर्ड इस बात से और भी अधिक उत्तेजित हो गया, अब वह उस महिला के नज़दीक जाकर उसे अपनी बाहों में कस कर जकड़ना चाहता था, वह महिला भी उसे अपनी बाहों में आने का इशारा कर रही थी। जैसे ही हॉवर्ड उसके नज़दीक पहुंचा उस महिला ने उसे एक फ्लाइंग किस दिया और उसके चेहरे से एक मोहित कर देने वाली खुशबु टकराई जिसने चार्ल्स की नाक के अंदर प्रवेश करते ही उसे मंत्र मुग्ध कर दिया और वह बेहोश होकर गिर पड़ा। 


वहीं मिसेस वुड चार्ल्स को एक कमरे के भीतर लेकर जातीं हैं, जहाँ एक खूबसूरत युवती बिस्तर पर लेटी हुई थी, उसने काले रंग के वस्त्र पहन रखे थे। 


"ये देखो , ये मेरी टाइपिस्ट है कैथरीन, कितनी खूबसूरत और प्यारी दिखती है, मैं इसके बारे में लिखूंगी, इसके जीवन के सच्चे पात्र को अपनी कहानी में उतारूँगी, इसे ही सत्य कथा लेखन कहते हैं", मिसेस वुड ने चार्ल्स से कहा। 


चार्ल्स उस लड़की की ओर ध्यान से देखा, वह बेहद खूबसूरत थी, चार्ल्स ने उस पर नज़र डाली तो पाया कि उसके शरीर पर किसी प्रकार के ज़ोर ज़बर्दस्ती के निशान नहीं थे जो इस बात का सबूत था कि उसे मारा नहीं गया था, उसकी प्राकृतिक मौत ही हुई होगी चार्ल्स ने अपने मन में सोचा। अब भी वह काफी खूबसूरत दिखती थी।


चार्ल्स ने उसे देखने के बाद मिसेस वुड की तरफ़ पलट कर कहा "इसके जीवन में कुछ ऐसा खास होगा तभी तो आप अपने नॉवेल में उसे लिख रही होंगी"। 


"हाँ बिलकुल वह थी ही इतनी प्यारी की कोई भी उसकी तारीफ करना चाहेगा, आओ अब नीचे हॉल की ओर चलते हैं", मिसेस वुड ने चार्ल्स से कहा और अपने पीछे आने का एक बार फिर से इशारा किया। 




दोनों नीचे आकर हॉल में बैठे ही थे कि विला का गेट कीपर हॉवर्ड को पकड़ कर लाता है। 


" हॉवर्ड... हॉवर्ड, अरे इसे क्या हो गया, ये बेहोश कैसे हो गया ", चार्ल्स ने हॉवर्ड को होश में लाने की कोशिश करते हुए उस विला के गेट कीपर से पूछा। 


"पता नहीं क्या हुआ अच्छा खासा गेट की तरफ़ आ रहे थे इतने तेज़ तूफान आया और ये कुछ दूर आगे बढ़ने के बाद पीछे पलट कर बेहोश हो गए, मैंने इन्हें बहुत होश में लाने कि कोशिश की पर इन्हें होश नहीं आया", गेट कीपर ने चार्ल्स को सारा माजरा समझाया। 


"मैं तो कहती हूँ इन्हें थोड़ी देर आराम करने दो , हो सकता है इन्हें होश आ जाए ", मिसेस वुड ने चार्ल्स की तरफ़ देखते हुए कहा। 


" शायद आप ठीक कह रही हैं, वर्ना इतनी बार पानी की छींटे मारने पर तो कोई भी उठ जाता, इसे यहीं सोफ़े पर आराम करने देते हैं, मैं और आपका गेट कीपर मिलकर उस लड़की को कॉफिन में रख देंते हैं,"चार्ल्स ने मिसेस वुड की ओर देखते हुए कहा। 


विला के गेट कीपर और चार्ल्स ने मिलकर उस लड़की के मृत शरीर को कॉफिन में रख दिया और फिर से हॉवर्ड को होश में लाने की कोशिश करने लगे। 


" हॉवर्ड...हॉवर्ड... जाग जाओ, क्या हो गया है तुम्हें, पता नहीं इसे क्या हो गया है अचानक", चार्ल्स ने हॉवर्ड को कई बार पुकारा पर हॉवर्ड ने कोई प्रतिक्रिया नहीं की। 


मिसेस वुड ने उसकी हालत देखते हुए कहा "मुझे लगता है इनकी तबीयत ज़्यादा खराब हो गई है, तुम इन्हें फौरन अस्पताल ले जाओ, इससे पहले कि बात हाँथ से निकल जाए ", मिसेस वुड ने चार्ल्स से कहा और अपने गेट कीपर की ओर देखते हुए हॉवर्ड की मदद करने का इशारा किया। चार्ल्स और गेट कीपर ने हॉवर्ड को सहारा दिया और उसे अपने कंधों पर टांग कर वैन के अंदर बैठा दिया। चार्ल्स ने ड्राइवर सीट संभालते हुए वैन को स्टार्ट किया और सरपट वैन विला से बाहर निकाल कर अस्पताल की दिशा में ले गया। 


                          To be continued...                        ©ivanmaximusedwin


टाइप राइटर - 7


"ये इन्हें क्या हुआ है",अस्पताल में नर्स चार्ल्स से पूछती है।

"पता नहीं, अच्छा खासा था अचानक ही बेहोश हो गया," चार्ल्स ने पूछे गए प्रश्न का उत्तर दिया।

इतने में वहां डॉक्टर प्रकट होते हैं, हॉवर्ड की अच्छी तरह से जांच करते हैं और चार्ल्स की ओर देखते हैं "घबराने की जरूरत नहीं है, कमज़ोरी से बेहोश हो गए हैं, मैं इन्हें इंजेक्शन लगा देता हूं और स्लाइन चढ़ा देता हूं, थोड़ी देर में होश आ जाएगा, शाम तक डिस्चार्ज कर देंगे", डॉक्टर चार्ल्स से कहते हैं।

"तो ठीक है मैं शाम तक इसे लेने आ जाऊँगा," चार्ल्स डॉक्टर से कहता है और हॉवर्ड की जेब से डिलीवरी के पैसे निकाल कर अस्पताल में जमा कर देता है।

नर्स से कहकर हॉवर्ड के होश में आते ही उसे चिकेन सूप पिलाने का भी इंतजाम करवा देता है अस्पताल की कैंटीन से। फिर हॉवर्ड की वैन लेकर अपने कार्यस्थल चला जाता है। लेकिन वह इस बात से चिंतित था कि अचानक ही हॉवर्ड की तबीयत क्यूँ खराब हो गई, सुबह तक तो ठीक था फ़िर अचानक क्या हो गया। 

दिन भर के कार्य की समाप्ति के बाद चार्ल्स अस्पताल की ओर निकल गया, हॉवर्ड की वैन लेकर। अस्पताल की ओर जाते समय भी चार्ल्स के मन में यही बात चल रही थी कि उस वुड्स विला में ज़रूर कुछ बात है तभी हॉवर्ड की ऐसी हालत हो गई है। वुड्स विला अपने अन्दर कई राज़ छुपा कर रखे हुए है, अब हॉवर्ड ही इस बात का राज़ खोल सकता था कि उसके साथ क्या हुआ है, चार्ल्स इस बात को जानने के लिए काफी उत्सुक था यही वजह थी कि वह लंदन की सड़कों पर पूरी रफ्तार में वैन दौड़ा कर अस्पताल पहुंच गया। 

अस्पताल में उसके प्रवेश करते ही नर्स ने उसका रास्ता रोक लिया। 

"तुम्हारे दोस्त ने होश में आते ही मेरी कमर पकड़ ली और कस कर चूमने लगा, मुझे वार्ड बॉय को मदद के लिए बुलवाना पड़ा, बार बार यही कह रहा था मुझे छोड़ कर मत जाओ... मुझे छोड़कर मत जाओ, फिर थोड़ी देर बाद नॉर्मल हो गया, क्या इस बेचारे की माशूका छोड़कर चली गई है या प्यार में धोखा खा चुका है ", नर्स ने दिन भर का सारा हाल बता कर फिर चार्ल्स से हॉवर्ड की कहानी पूछ डाली। 

" नहीं ऐसा कुछ नहीं, इससे पहले उसका किसी लड़की के साथ कोई संबंध नहीं था, उसके सबसे करीबी दोस्त होने के नाते मैं ये कह सकता हूँ कि अब तक वो वर्जिन ही है, मैं जाकर उससे बात करता हूँ", चार्ल्स ने नर्स को सारी बातें बताईं और हॉवर्ड के कमरे की ओर बढ़ गया। 

"आह, तुम आ गए, मेरे दोस्त तुमने मेरा बहुत साथ दिया, मैं तुम्हारा ये एहसान कैसे चुकाउँगा ", हॉवर्ड ने चार्ल्स की ओर देखते हुए कहा जैसे ही उसने अस्पताल के कमरे प्रवेश किया। 

" इसमें एहसान की क्या बात है, मैंने तो अच्छे दोस्त होने का फर्ज़ निभाया है, तुम भी तो यही करते ", चार्ल्स ने हॉवर्ड का हाँथ पकड़ कर बेड पर बैठते हुए कहा। 

" नहीं मेरा मतलब है तुमने अस्पताल का बिल जो चुकाया उसके बारे में कह रहा था", हॉवर्ड ने चार्ल्स की ओर देखते हुए कहा। 

" क्या, अस्पताल का बिल, अरे भाई वो भी मैंने तेरी ही जेब से डिलीवरी के पैसों से चुकाया", चार्ल्स ने हॉवर्ड की ग़लत फहमी दूर करते हुए उसे हक़ीक़त से रूबरू कराया। जिसका हल्का सा झटका हॉवर्ड को लगता है क्यूँकि इतनी परेशानी के बाद कमाए हुए पैसों का इतनी आसानी से चला जाना किसी को भी खलता है, फिर भी हॉवर्ड अपने आप को किसी तरह से संभालता है। 

" ये अस्पताल की नर्स बता रही थी कि तुम उसकी कमर पकड़ कर चूम रहे थे और कुछ उल्टा सीधा बक रहे थे, आखिर क्या चक्कर है इतना तो तुम हर शनिवार को शराब पीकर भी नहीं बहकते हो", चार्ल्स ने अपनी बात ज़ारी रखते हुए हॉवर्ड से उसकी करनी की वजह पूछी। 

"पता नहीं यार, कुछ ठीक से याद नहीं है लेकिन जब मैं वुड्स विला से बाहर गेट किपर को मदद के लिए बुलाने गया तो तेज़ आँधी चलने लगी उसके बाद मुझे किसी ने पीछे से पुकारा, मैं पीछे पलटा और देखा उस वुड्स विला में एक और सुन्दर युवती थी, मुझे याद है वह हक़ीक़त में थी उसने... उसने मुझे अपने पास बुलाया भी लेकिन मैं ही शायद बेहोश हो गया ", हॉवर्ड ने चार्ल्स को सारा माजरा समझाया। 

" तो तुम्हारा कहना है कि वहाँ वुड्स विला में एक और शख्स था जिसके बारे में हम लोगों को पता ही नहीं था ", चार्ल्स ने हॉवर्ड की बातों पर शंका जताते हुए कहा। 

" मैं सच कह रहा हूँ, वहाँ वह लड़की थी, जवान खूबसूरत और ज़िंदा लड़की, नहीं तो मुझे ही दिखने का क्या मतलब है वह भी सुबह के समय ", हॉवर्ड ने अपनी बातों पर अड़ते हुए चार्ल्स से कहा। 

" हो सकता है कि वहाँ लड़की हो लेकिन उसे मुझे भी तो दिखना चाहिए था और जब तुम्हें गेट कीपर लेकर आया तब भी उसके साथ कोई नहीं था, अगर वहाँ कोई लड़की थी जो तुम्हें दिखी थी, तो तुम्हारे बेहोश होने पर वह विला के अंदर आनी चाहिए थी, क्यूँकि बाहर तेज़ आंधी भी चल रही थी, वह लड़की गायब कहाँ हो जाएगी ", चार्ल्स ने हॉवर्ड की बातों से असहमति जताते हुए उसकी ओर देख कर कहा। 

" मुझ पर यकीन करो वहाँ ज़िंदा लड़की थी, जो मैंने देखी थी, मेरी आँखें धोखा नहीं खा सकती हैं, अब मैं इस बात के बारे में तो नहीं बता सकता कि मेरे बेहोश होने के बाद क्या हुआ होगा लेकिन उससे पहले की बातें मुझे अच्छी तरह से याद हैं, हो सकता है वह लड़की तुम्हारे सामने न आना चाहती हो ", हॉवर्ड ने फिर भी चार्ल्स से अपनी बातों पर अड़ते हुए कहा लेकिन अब उसकी बातों ने चार्ल्स को भी सोचने पर मजबूर कर दिया था। चार्ल्स भी अब यह सोचने में लग गया था कि अगर वहाँ एक और शख्स मौजूद था तो वह उससे क्यूँ छुपना चाहेगा। 

" अच्छा इस पर तो बाद में भी बहस की जा सकती है अभी यहाँ से चलने का समय है", चार्ल्स ने हॉवर्ड से कहा। 

"हाँ तुम शायद सही कह रहे हो, चलो चलने की तैयारी करते हैं, चलने में अब भी थोड़ी कमज़ोरी है, तुम जाकर डॉक्टर से मिल लो", हॉवर्ड ने चार्ल्स से कहा। 

इतने में डॉक्टर ख़ुद ही वहाँ एक बार फिर से प्रकट हो गए, " कहीं जाने की ज़रूरत नहीं है, मैं ख़ुद ही यहाँ आ गया हूँ, ये मैंने कुछ दवाइयां लिख दी हैं जाने से पहले इन्हें ले लेना, पेशंट को ताकत मिलेगी और तीन दिन बाद एक बार फिर से चेकअप के लिए पहुँच जाना, कितनी रिकवरी हुई है इसका पता चलेगा, अब तुम इसे ले जा सकते हो", डॉक्टर ने चार्ल्स की ओर एक पर्चा बढ़ाते हुए कहा। 

चार्ल्स ने वह पर्चा लेकर अस्पताल के ही मेडिकल स्टोर से दवाइयां ले लीं और हॉवर्ड को लेकर उसके घर की ओर रवाना हो गया। 

" आज रात मैं तुम्हारे यहाँ ही रुक जाता हूँ, तुम्हारा ख्याल रखने के लिए, कल तक तो तुम्हारी तबीयत में थोड़ा सुधार हो जाएगा", चार्ल्स ने वैन चलाते हुए हॉवर्ड से कहा। 

"हाँ ये ठीक रहेगा, मैं अकेले शायद अपना ख्याल न रख पाऊं, तुम्हारे रहने से काफी राहत मिलेगी", हॉवर्ड ने चार्ल्स की बात से सहमति जताते हुए कहा। 

चार्ल्स वैन को सीधा हॉवर्ड के घर की दिशा में ले कर जा रहा था क्यूँकि हॉवर्ड चिंता उसे भी थी। वह कठिन हालातों से गुज़र रहा था, उसे ऐसी चीजें दिख रही थी जो चार्ल्स नहीं देख पा रहा था और यही चार्ल्स के लिए एक चिंता का विषय था। 

                          

                           To be continued... 

                     ©ivanmaximusedwin 


टाइप राइटर - 8


"आह... घर में ही राहत मिलती है, आज का दिन काफ़ी भारी था," हॉवर्ड ने घर पहुँचते ही दरवाज़े को खोलते हुए चार्ल्स से कहा।

"हाँ, आज का दिन तुम्हारे ऊपर कुछ ज़्यादा ही भारी था इसलिए हल्का होने के लिए शायद अस्पताल की नर्स को पकड़ लिया था, अच्छा बहाना था कमर पर हाँथ डालने का ", चार्ल्स ने हॉवर्ड की ओर देखते हुए मुस्कुरा कर कहा।

"क्या तुम्हें अब भी यकीन नहीं है मेरे ऊपर, अच्छी दोस्ती है, मैं सच कह रहा हूँ मेरे भाई मेरा यकीन मानो ये सब कुछ वुड्स विला में उस सुंदर लड़की को देखने के बाद हुआ, अस्पताल की नर्स को भी शायद उसी बेहोशी की हालत में पकड़ लिया था, मेरा सिर भारी सा हो गया था होश में आने के बाद ", हॉवर्ड ने चार्ल्स के सामने अपनी सफाई पेश करते हुए कहा।

" अच्छा चलो अब फ्रेश हो जाओ, मैं भी फ्रेश होकर कुछ खाने का इंतज़ाम करता हूँ, कुछ पीने के लिए है तो बताओ," चार्ल्स ने हॉवर्ड को निर्देश देते हुए कहा।

" हाँ, सब कुछ मौजूद है, तुम मेरे कमरे से रात के लिए कपड़े ले सकते हो और नहाने के लिए नीचे वाला बाथरूम इस्तेमाल कर सकते हो, मुझे पता है तुम खाना अच्छा बना लेते हो, फ्रीजर में मीट रखा है बढ़िया डिश बनाने के लिए हर मसाले भी मौजूद हैं, बस फ्रेश होकर काम पर लग जाओ, मैं भी तैयार फ्रेश हो कर आता हूँ ", हॉवर्ड ने चार्ल्स से कहते ही उसे अपने पीछे आने का इशारा किया और अपने कमरे से कुछ कपड़े निकाल कर दे दिए। चार्ल्स उन्हें लेकर नीचे बने बाथरूम में नहाने के लिए पहुंच गया।

फ्रेश होने के बाद उसने किचन में जाकर खाना बनाने की तैयारी करनी शुरू कर दी। फ्रीजर में काफ़ी मीट मौजूद था, चार्ल्स ने कुछ ही देर में बढियां खाना बना लिया फ़िर उसे डाइनिंग टेबल पर रख दिया। हॉवर्ड भी तैयार हो कर डाइनिंग टेबल पर खाने के लिए पहुँच गया। 

"पीने का कुछ इंतज़ाम है तो बताओ, तुम तो आज पानी पर रहोगे क्यूँकि दवाइयों का असर नहीं होगा पीने के बाद, मैं क्यूँ ड्राइ डे मनाऊँ तुम्हारे साथ, तो बताओ कहाँ है रात का जुगाड़", चार्ल्स ने हॉवर्ड से कहा। 

"रुको मैं ही निकाल कर ले आता हूँ, तुमने सुबह से काफ़ी मेहनत भी की है और फिर खाना भी बनाया है इसलिए अब तुम आराम से बैठो, मैं अपने कमरे में रखी स्कॉच की बोतल निकाल कर लाता हूँ ", हॉवर्ड ने चार्ल्स से कहा और अपने कमरे से स्कॉच की बोतल निकाल कर ले आया और चार्ल्स को पकड़ा दिया। 

" स्कॉच तो काफ़ी उम्दा है, काश तुम पी पाते ", चार्ल्स ने हॉवर्ड को छेड़ते हुए कहा। 

" हाँ, उड़ा लो मज़ाक, ये मेरे एक ख़ास मित्र ने लाकर दी थी, काफ़ी पुरानी है लेकिन पीने का मज़ा तभी तो आता है जब एक पुरानी उम्दा शराब मिल जाती है", हॉवर्ड ने चार्ल्स की ओर देखते हुए कहा। 

" वैसे कैसी लगी तुम्हें मटन की डिश", चार्ल्स ने स्कॉच की चुस्की लगाते हुए कहा। 

" काफ़ी अच्छा बना है तुमने मसालों का भी सही इस्तेमाल किया है, " हॉवर्ड ने चार्ल्स से खाने की तारीफ़ करते हुए कहा। 

कुछ देर बाद खाना पीना ख़त्म होते ही, चार्ल्स ने सफ़ाई कर दी और डिशेज धोने के बाद दोनों एक बार फिर चिमनी के पास बैठ गए, चार्ल्स स्कॉच का ग्लास लिए हुए था और हॉवर्ड क्यूबन सिगार जलाए हुए था।दोनों उसी वुड्स विला के बारे में बातें करने लगे। 

"अब तक तो उस लड़की के शव को दफना दिया गया होगा, उसके रिश्तेदार भी पहुँच ही गए होंगे, तुम जानते हो हॉवर्ड वह लड़की भी काफ़ी सुंदर थी जिसे दफनाया जाना था, बला की खूबसूरती थी उसकी, काश वह मुझे मरने से पहले मिली होती तो उसे अपना बना लेता," चार्ल्स ने हॉवर्ड से अपने मन की बात कही। 

" तुम उस लड़की की बात कर रहे हो जो मर चुकी थी और मैंने तो उस खूबसूरत बगीचे के बीचोंबीच जो सुंदर लड़की देखी थी उसका क्या, वह तो ज़िंदा भी थी और मुझसे बातें कर रही थी, मेरा तो रोम रोम उसपर फ़िदा हो गया ", हॉवर्ड ने चार्ल्स की तरफ देखते हुए कहा। 

"लेकिन वह मुझे क्यूँ नहीं दिखी ", चार्ल्स ने खेद प्रकट करते हुए कहा। 

" हो सकता है वह विला के आसपास ही होगी पर हम दोनों को आते हुए नहीं दिखी हो, हॉवर्ड ने चार्ल्स को सफ़ाई देते हुए कहा। 

"तो जाते समय तो दिखनी चाहिए थी ", चार्ल्स ने एक बार फिर खेद प्रकट किया। 

"हो सकता है तुम मुझे लेकर उस समय कुछ ज़्यादा ही परेशान रहे हो इसलिए वहाँ से जल्द बाज़ी में भाग कर अस्पताल की ओर निकल पड़े होगे , तभी उस खूबसूरत लड़की को नहीं देख पाए", हॉवर्ड ने एक बार फिर से सफाई देते हुए कहा जिसे सुन चार्ल्स कुछ देर के लिए सोच में पड़ गया। उसे भी लगने लगा था कि हो सकता है हॉवर्ड की बात सच हो। 

" मुझे लगता है कि हो सकता है मैं उसे न देख पाया हूँ और तुम्हारी बात भी बिलकुल सही हो, लेकिन मिसेस वुड्स ने इस बात का ज़िक्र क्यूँ नहीं किया जबकि मैंने उनसे काफ़ी देर तक बातें की और जितनी जानकारी उन्होंने दी उसके हिसाब ऐसी किसी दूसरी लड़की का ज़िक्र तो किया नहीं ", चार्ल्स ने हॉवर्ड की बात सुनकर उससे सहमति जताते हुए मिसेस वुड्स से मिली जानकारी के बताया, जो एक तरह से हॉवर्ड की बात को बेबुनियाद साबित कर रहा था लेकिन हॉवर्ड फ़िर भी अपनी आँखों देखी बात को सत्य कह रहा था और सबसे बड़ी बात यह थी कि वह हॉवर्ड का नाम पहले से कैसे जानती थी जबकि हॉवर्ड तो उस विला में पहली बार गया था और उस हिसाब से लड़की भी उससे पहली बार ही मिल रही थी। ये एक सोचने का विषय था जिसके बारे में चिमनी के पास बैठकर दोनों मित्रों ने काफी देर तक सोचा लेकिन किसी नतीजे तक नहीं पहुंच पाए, पर इस विषय के बारे में सोच कर उनके रौंगटे ज़रूर खड़े हो गए क्यूँकि एक अनजान डर ने दोनों को दहशत से भर दिया था। 

रात काफ़ी हो चली थी दोनों सोने के लिए एक दूसरे से रुखसत ली और अपने अपने कमरों में सोने चले गए। हॉवर्ड अपने कमरे में ऊपर सोने चला गया और चार्ल्स ने नीचे हॉल के पास वाले कमरे में सोना उचित समझा। उस रात काफ़ी ठंड थी बाहर कोहरे ने चाँद की चाँदनी पर अपनी चादर चढ़ा रखी थी, आस पास नज़दीक का कुछ भी देख पाना सम्भव नहीं था, चार्ल्स ने सोने से पहले एक बार खिड़की के शीशे से बाहर की ओर देखा पर कोहरे के कारण वह काफ़ी दूर तक देखने में असफल था। थोड़ी देर बाद वह बिस्तर पर लेट गया और गहरी नींद में पहुँच गया। समय थोड़ा और बीतता है रात के बीच स्कॉच का नशा टूटते ही उसकी नींद खुल जाती है। अचानक उसे ऐसा लगता है कि एक साया उसके ठीक सामने के कमरे से गुज़रा है, चार्ल्स ने दरवाजे को बंद नहीं किया था इसलिए उसने एक अनजान साया सामने से गुजरता हुआ देखा। वह खुद को रोक नहीं पाया और बिस्तर से उठ खड़ा हुआ और उस साये का पीछा करने के उद्देश्य से आगे बढ़ा। उसने अपना ओवर कोट डाला और सीधा कमरे के बाहर देखा तो उसने पाया कि एक अनजान साया हॉल में घूम रहा है चूंकि हॉल में अंधेरा था इसलिए चार्ल्स उस साये को ठीक से देख पाने में असमर्थ था। चार्ल्स दबे पाँव आगे बढ़ा, वह साया हॉल से सीधा प्रवेश द्वार के सामने जाकर कुछ देर के लिए रुक गया। चार्ल्स ने ये देखते ही अपने कदम आगे बढ़ाना रोक दिया, चार्ल्स को ये लगा कि शायद उस साये को शक़ हो गया है कि कोई उसका पीछा कर रहा है। हाल में काफ़ी अंधेरा था जिसका फायदा चार्ल्स को भी मिल रहा था जो तुरंत ही पील्लर के पीछे छुपा गया जैसे ही अनजान साये पीछे पलट कर देखा। कुछ देर बाद उस अनजान साये को इस बात पर यकीन हो गया कि कोई भी उसके पीछे नहीं है तो उसने प्रवेश द्वार को खोला "चर्रररररर", दरवाज़ा खुलता है, चार्ल्स छुप कर उस साये को देखता है उसने खुद को कम्बल से ढक रखा था जिससे उसका चेहरा देख पाना संभव नहीं था। चार्ल्स को एक बार के लिए मन में ये ख़याल आया कि कहीं वह हॉवर्ड तो नहीं है, उसके अलावा हो भी कौन सकता है लेकिन अगर वह हॉवर्ड है तो उसे अपने घर से चोरों की तरह निकलने की क्या जरूरत है वह भी इतनी रात में। 

चार्ल्स को ये चिंता सताए जा रही थी, पर अब हॉवर्ड के कमरे में जाकर देखना बेकार था क्यूँकि फ़िर वह अनजान शख्स हाँथ से निकल जाता जो तुरंत ही घर के बाहर निकला था। चार्ल्स ने उस साये का पीछा करना शुरू किया। जहां उसके मन में इस बात को जानने की जिज्ञासा थी कि वह शख्स कौन है वहीं उसके मन में एक ओर अनजान डर ने भी अपनी जगह बना ली थी, फिर भी हिम्मत का प्रदर्शन करते हुए चार्ल्स उस काली रात में आगे बढ़ा। 

 

                    To be continued...                               ©ivanmaximusedwin



Comments

  • 👍👍

    Dec 10, 2020

Log Out?

Are you sure you want to log out?