लूट लिए घर माली ने Read Count : 18

Category : Poems

Sub Category : N/A
बागों में अब फूल कहाँ हैं , तोड़ लिए सब माली ने ।
एक  मूरत को खुश करने में लूट लिए  घर माली ने ।

तेरा मंदिर तुझे सलामत मैं भौरा आवारा हूँ ।
इकलौता श्रृंगार मैं उसका फिरता मारा मारा हूँ ।
वफ़ा कहूँ या खता मैं उसकी छीन लिए स्वर माली ने ।
एक  मूरत को खुश करने में लूट लिए  घर माली ने ।

पत्थर की मूरत में बेशक हृदय नहीं हो सकता है ।
जिसने मेरा मरम ना जाना हरि नहीं हो सकता है ।
उड़ने की ख्वाहिश थी संग संग काट लिए पर माली ने ।
एक  मूरत को खुश करने में लूट लिए  घर माली ने ।

बाग बगीचों की पीड़ा का तनिक ना तुमको भान हुआ ।
बिन राधा के मोहन का वो हर लम्हा बेजान हुआ ।
तड़प रहा हूँ सांसों के बिन छीन लिए धड़ माली ने ।
एक  मूरत को खुश करने में लूट लिए  घर माली ने ।

बागों में अब फूल कहाँ हैं , तोड़ लिए सब माली ने ।
एक  मूरत को खुश करने में लूट लिए  घर माली ने ।

✍ धीरेन्द्र पांचाल


Comments

  • 🙇

    Sep 22, 2020

Log Out?

Are you sure you want to log out?