तू बाज की उड़ान है Read Count : 20

Category : Poems

Sub Category : N/A
रुके नहीं कदम तेरे ,
विपत्तियों का राज है ।
तू खून से तिलक लगा ,
ये शत्रु की आवाज है ।
तू तिलमिलाए दुश्मनों की ,
कोशिशें नाकाम कर ।
ना कर हे पार्थ शाम अब ,
तू युद्ध त्राहिमाम कर ।
शौर्य ना ढले तेरा ,
तू सूर्य के समान है ।
तू सिंह की है गर्जना ,
तू बाज की उड़ान है ।

✍ धीरेन्द्र पांचाल 🚩🚩

Comments

  • 🙏🙏

    Sep 02, 2020

Log Out?

Are you sure you want to log out?