आँखे Read Count : 19

Category : Poems

Sub Category : N/A
शीशे सी है यहाँ सबकी आँखे
बता देती हैं उनकी हर सोच हमारे बारे में ,
तुम्हारी आँखों में ना कोई शीशा है 
ना ही कोई नशा हैं,
फूलो की पंखुड़ियों में लिप्टी 
आकर्षक एक मुस्कान हैं,
मेरे सफर का जैसे समंदर के किनारे 
अब विश्राम हैं । 

Comments

  • Jul 17, 2020

Log Out?

Are you sure you want to log out?