खुशियाँ Read Count : 19

Category : Poems

Sub Category : N/A
सूरज के होने से 
या 
ना होने से
कोई फर्क नही होता 
अगर वह अपनी रौशनी 
नही बिखेरता ,
बादलों के होने 
या 
ना होने से 
किसी को कोई फर्क नही होता
अगर वस कभी बारिश ना करता,
रात के होने या न होने से 
कोई फर्क नही होता
अगर वह सितारों का
घर नही होता ,
फूलों के होने 
या 
ना होने से 
कोई फर्क नही होता
अगर वो बागान 
खुश्बुओं से भरा ना होता ,
उन्हें !  तुम्हारे होने 
या
ना होने से 
कोई फर्क नही होता
अगर उनकी मुस्कुराहटों 
का कारण तू ना होता । 
                           - उत्तम पंड्या

Comments

  • Mukesh  Negi

    Mukesh Negi

    बहुत सुंदर

    Jul 14, 2020

  • बहुत खूब👍

    Jul 14, 2020

  • Sarah Amber Pipkin.

    Sarah Amber Pipkin.

    oof?

    Jul 14, 2020

  • Uttam pandya

    Uttam Pandya

    thanks to all 😊

    Jul 15, 2020

Log Out?

Are you sure you want to log out?