"तुमसे बात हुई हैं" Read Count : 30

Category : Blogs

Sub Category : LifeStyle
तुमसे बात हुई है,
तुमसे बात हुई हैं,

                     एक ऊब सी हो रही है पिछले दिनों से,
                     रोज पलो को दिन में
                     और दिन को महीने की तरह काटते-                             काटते,

                     एक अजब सी उधेड़बुन में जी रहा हूँ
                     पिछले दिनों से,
                     अनेक उलझने, अनेक ख्यालात तब्दील                         हो रही हो जैसे किसी मायूसी में,

मगर,
आज अचानक,
जैसे सारी उधेड़बुने मचल कर 
बन गयी हो मुस्कुराहट,
जैसे सारे ख्यालो को मिल गए
हो पँख,
            क्योंकि,
                      आज तुमसे बात हुई है,
                       आज तुमसे बात हई है,


कुछ यूं झूम उठा है बावरा मन,
        जैसे सावन की बदरा में झूम रहा है
        कोई मोर,
        जैसे पखवाड़े की अँधेरी रात के बाद
        अचानक दिख गया हो चाँद,
        जैसे दीवाली पर मिल गयी हो
        कोटा वाली ट्रेन में सीट,
        जैसे exam में भर गयी ही physics
        की answer सीट,
       
जैसे कंटीले पथ के बाद मिल गया
हो चमेली का फूल,
            क्योंकि,
                     आज तुमसे बात हुई है,
                      आज तुमसे बात हुई है.............

                    
         ✍️✍️✍️भरत देवासी
©bharatdewasi

Comments

  • Dec 15, 2019

Log Out?

Are you sure you want to log out?