Vo Raahe.... Read Count : 53

Category : Poems

Sub Category : N/A
राहे सही होंगी तभी 
मंजिल तक पहुँच पाएंगे..
बिना सपनो के हम ,
उन राहो को कैसे ख़ोज पाएंगे।

Comments

  • 👍

    Dec 14, 2019

Log Out?

Are you sure you want to log out?