NRC, CAA Read Count : 43

Category : Articles

Sub Category : Politics


Stone collecting can be.
Collect the weapons can be. 
So the papers collect why can't ?
It is this message which is the creep also understand it into find. Black black it from the message it seems is all right. On it absolutely is not. Such messages contain lots your point which is accurate to prove the quasi-qualified thing with unfit and over thing added is. Special by which politicians and they represent your law and rules which Real to the public qualified into, causing the public or some category of people in the future in the crisis may come is such a law or rule. For example, we EVM , NRC, and the cab can take. These such law which 
Style from Portion well-being it does. On the real thing different is the same. Normal people understand it can't, such a thing is not ;on the need to understand it is. Which normal people not understand. They believe the victims are who they themselves also do not know who he wants to hunt and what their intent is. The only advantages on the people of the women's draw is .What possibilities might it fully trace is given ;on the gene people on the or gene category on the bearing going? What the and what http the bearing going? What kind of damage going? In the future the said rules, or having become what category on the crisis is to come?These things sports or partial rooms hid is. Therefore, people in this trap myself inexplicably studio are. Who knows, the BJP from the rest of the people slave can be created. The NRC and the CAB from the poor division can be done? NRC and CAB the weak to deadly. The same way the FIR against local democracy on the Poke.Security settings in view of the possibility of Our which print is also we can say that our Into can be a. They specific ideology of the slave, a follower can be, through which enter the rule-specific sections can be of the. A special magic from the setting by the public it is convinced can be, of therein no rigging not ; he may be. Given the current situation exactly 100℅eye is coming, it is the reality. Security the this take are , or that side no attention into give , this long mental slave and budding of being but is. In exactly the same way the NRC , the CAA is also. If any from her family members birth the Zeiss this happens, he is the person that data the citizen is to be yourself. Nevertheless such a lot of Come, which the Hindu is forced to stay. There are many people who have to be a citizen of the evidence also is not. Papers is not. They may be due, the time pay into and found its is also likely. Papers done done time expenditure may be, and the thing which have was he has could. In such a case the discomfort is just the public may have. So the security is an excuse ;on conscience, some wacky is the same. Means the CAA is also the same kind of people who have discomfort may increase. Its results Durham may have. In the on the basis of the security means is you Religion a lot more sense to give and secularism to prod there are. I.e. this law to acknowledge and tappers the Constitution into people. Person in any further noticeable into is. Religion itself is best . In the basis discrimination is valid and the best in the world the Brahman is. Him completely off is. The world's best law, rule, divide and rule is. It's up to you sir is do. It well understood. 
Multitudinous people these take the life of the security, the NRC, the CAA these is only the instrument. You document to bring, the their is. I know, the majority (category accordingly into people) on the minority (category accordingly into ) constituted the only rule is. 100℅ logements all connection with other not be can. See wisdom is not similar occurs. Therefore, which is constituted and the modern per modern concepts used by running they have the same rule can operate is. Even therein of the masses pros or not, they Your To of power-packed by using consumption can. Multitudinous people such half are divided, by, suspected, divide and rule the inhuman law or rule making cannot be ruled out. A the andSunday may be. A majority of these when it comes to understanding, then understanding ;but until then it is possible. Late is it, particularly India and the people which backward they understand. The merchants from the Be careful to.

पत्थर इकट्ठा कर सकते हो।
हथियार इकट्ठा कर सकते हो। 
तो कागज़ात इकट्ठा क्यों नहीं कर सकते ?
यह ऐसा मेसेज है जो पढ़ेलिखे भी इसे समझ नही पाते। उपर उपर से यह मेसेज ऐसा लगता है की सब सही है। पर ऐसा बिल्कुल नही है। ऐसे मेसेज बहुत सारे होते है जो अपनी बात सही साबित करने के लिए अर्ध योग्य बात के साथ अयोग्य और अव्यर्थ बात जोडी जाती है। खास करके जो राजनेता और इनके नुमाइंदे अपने कानून और नियम जो वास्तविक जनता के लिए  योग्य नही है, जिससे जनता या कुछ कैटेगिरी के लोग भविष्य में संकट में आ सकते है ऐसे कानून या नियम। उदाहरण के तौर पर हम  EVM , NRC और CAB ले सकते है। ये ऐसे कानून है जो 
उपर उपर से भारतीयोंकी भलाई इसमें नजर आती है। पर वास्तविक बात अलग ही है। सामान्य लोग इसे समझ नही सकते, ऐसी बात नही है ;पर इसे समझने की जरूरत है। जो सामान्य लोग नही समझते। वे किसी विश्वास के शिकार होते है जो वे खुद भी नही जानते की कौन उनका शिकार करना चाहता है और क्या उनके इरादे है। केवल फायदों पर लोगों की नजरें आकर्षित की जाती है  । क्या क्या संभावनाएं हो सकती है इसपर पूर्णतः ट्रेस दिया जाता है ;पर जीन लोगों पर या जीन कैटेगिरी पर असर होनेवाला है? किस तरहसे और किस हदतक असर होनेवाला है? किस तरह का नुकसान होनेवाला है?  भविष्य में उक्त नियम या बातोंसे  किन कैटेगिरी पर संकट आनेवाला है?ये  बाते  संपूर्णतः या आंशिक रुपसे छिपाई जाती है। अत: लोग  इस जाल में अपनेआप बेवजह फस जाते है। कौन जानता है, की   EVM   से लोगोंको गुलाम बनाया जा सकता है। NRC और CAB से लोगोंका विभाजन किया जा सकता है? NRC और CAB निर्बलों के लिए घातक है। उसी तरह EVM लोकशाही जनतंत्र पर प्रहार है।EVM में सेटिंग की संभावना को देखते हुए हमारे जो प्रतीनिधी है वो भी हम यह कह सकते है की वो हमारे नही  भी हो सकते है। वे विशिष्ट विचारधारा के गुलाम, अनुयायी हो सकते है, जिसके जरिये जनतापर शासन विशिष्ट वर्गों का हो सकता है। एक खास तरिके से सेटिंग करके जनता को यह विश्वास दिलाया जा सकता है, की उसमें कोई हेराफेरी नही होती ; पर वह हो सकती है। वर्तमान स्थिति को देखते हुए वैसा 100℅नजर आ रहा है, यह वास्तविकता है। EVM  को लोग हलके से ले रहे है , या उस तरफ कोई ध्यान नही दे रहे है , ये बात ल़ोग मानसिक गुलाम और बुद्धीहिन होने का सबुत है। ठीक उसी तरह NRC , CAA भी है। अगर किसी भी व्यक्तिका जन्म जीस देशमें होता है, वह व्यक्ति उस देशका नागरिक अपने आप हो जाता है। फिर भी ऐसी बहुत सारी कौमें है, जो जंगलमें रहने को मजबूर है। ऐसे कई लोग है, जिनके पास नागरिक होने के सबूत भी नही है। कागजात नही है। वे किसी कारण से हो सकता है, की वक्त पे नही ढुँढ पाए इसकी भी संभावना है। कागजात ढुंढते ढुंढते वक्त का व्यय हो सकता है और जो बात होनी थी वह हातसे निकल सकती है। ऐसी दशा में परेशानी सिर्फ जनता को हो सकती है। सुरक्षा तो एक बहाना है ;पर   अंतरमन मे कुछ निराला ही है। मतलब CAA भी  उसी तरह है जो लोगों की परेशानी बढ़ा सकता है।  इसके परिणाम दुरगामी हो सकते है। धर्मके आधार पर सुरक्षा का मतलब है आप धर्म को बहुत जादा भाव दे रहे है और धर्मनिरपेक्षता को ठेस पहुचा रहे है। यानी इस कानून को माननेवाले और बनानेवाले संविधान को नही मानते। व्यक्ति धर्मके आगे कोई महत्त्वपूर्ण नही है। धर्म ही सर्वश्रेष्ठ है । धर्मके आधारपर भेदभाव मान्य है और दुनिया में सर्वश्रेष्ठ ब्राह्मण है। उसे पुरी तरह की छूट है। दुनिया का सर्वश्रेष्ठ कानून, नियम डिव्हाईड एंड रूल है। यह आप स्विकार करते है। इसे अच्छी तरह समझे। 
बहुसंख्यक लोग ये जान ले की EVM, NRC, CAA ये केवल साधन है। आपपर हुकुमत करने के लिए लाए हुए हतियार है। मै जानता हूँ, बहुसंख्यक (कैटेगिरी हिसाब से नही) लोगों पर अल्पसंख्यक (कैटेगिरी हिसाब से नही ) संघटित ही राज करते है। 100℅ लोगोंमेंसे सभी बुद्धीमान नही हो सकते। सभीकी बुद्धिमत्ता समान नही  होती है। अत: जो संघटित और आधुनिक पथपर आधुनिक संकल्पनाओं का इस्तेमाल करके चल रहे है वे ही शासन संचालित कर सकते है। भले उसमें जनता का भला हो या न हो, वे अपने लिए सत्ता का भरपूर उपयोग करके उपभोग ले सकते है। बहुसंख्यक लोगोंको ऐसे आधे अधुरे, विभाजित करनेवाले, संदिग्ध, डिव्हाइड एंड रूलवाले अमानवीय कानून या नियम बनाकर शासन किया जा सकता है। एक तरहकी अंधाधुंदी मचायी जा सकती है। बहुसंख्यक ये बात जब समझ ले तब  समझ ले ;लेकिन तब तक ऐसा संभव है। देर है यह   विशेषत: भारतके लोग जो पिछड़े है वे समझ ले। व्यापारीयों से सावधान हो जाए। 


Comments

  • Jan 21, 2020

Log Out?

Are you sure you want to log out?