Hindi Book Read Count : 16

Category : Notes/work

Sub Category : N/A
1)सेनानी न होते हुए भी चश्मेवाले को लोग कैप्टन क्यों कहते थे?

Answer:
इस पाठ के अन्तर्गत हम पाते हैं कि सेनानी न होते हुए भी चश्मेवाले को लोग कैप्टन कहते थे। इसका कारण उसके रंग-रूप में देशप्रेम की भावना का भरा होना था। हालांकि वह शरीर से दिव्यांग था और उसके पास संसाधनों का भी अभाव था। ऐसा होने के बावजूद भी उसमें देशभक्ति की भावना अपने पूर्ण रूप में मौजूद थी। ऐसा उसके क्रियाकलापों से प्रदर्शित होता है। 

2) हालदार साहब ने ड्राइवर को पहले चौराहे पर गाड़ी रोकने के लिए मना किया था लेकिन बाद में तुरंत रोकने को कहा-
(क) हालदार साहब पहले मायूस क्यों हो गए थे?
(ख) मूर्ति पर सरकंडे का चश्मा क्या उम्मीद जगाता है?
(ग) हालदार साहब इतनी-सी बात पर भावुक क्यों हो उठे?

Answer:
हालदार साहब पानवाले द्वारा पहले ही यह बात जान चुके थे कि नेताजी सुभाषचंद्र बोस की मूर्ति पर नियमित रूप से चश्मा लगाने वाले कैप्टन की मृत्यु हो चुकी है। वे अब यह सोचकर कि कैप्टन की मृत्यु के बाद किसी ने नेताजी की मूर्ति पर चश्मा नहीं लगाया होगा इस प्रकार मन में विचार करके उन्होंने ड्राइवर को चौराहे पर पहुंचने से पहले गाड़ी रोकने से मना किया था। (क) हालदार साहब पहले से ही मन में कुछ विचार कर पूर्वाग्रह से ग्रसित हो रहे थे। वे यह सोच रहे थे कि आखिर कौन ऐसा होगा जो अब कैप्टन की मृत्यु के बाद नेताजी की मूर्ति पर चश्मा लगाने का काम जारी रखेगा। यानि अब किसे इतनी फुर्सत होगी कि वह अपने दैनिक जीवनचर्या में से थोड़ा सा समय निकालकर इस ओर भी ध्यान दे। उन्हें यह बिल्कुल असंभव सा लग रहा था कि किसी के पास नियमित रुप से या कभी कभार या सिर्फ एक बार के लिये भी नेताजी की मूर्ति पर चश्मा लगाने लायक समय होगा। हालदार साहब यह सब सोचकर पहले मायूस हो गये थे।
(ख) हालांकि चौराहे पर पहुंचने के बाद हालदार साहब ने नेताजी की मूर्ति पर सरकंडे का चश्मा लगा हुआ पाया। यह दृश्य देखकर उन्हें आश्चर्य हुआ और उनकी खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा। मूर्ति पर सरकंडे का लगा हुआ चश्मा यह संकेत देता है कि हो ना हो यह किसी बच्चे का काम ही होगा। यह बात हमारे मन में ढेर सारी उम्मीदें जगा जाती हैं। पहला तो यह कि हमारे देश के बच्चों में देशभक्ति की काफी भावना मौजूद है। खेल खेल में सरकंडे का ही सही उन्होंने नेताजी की मूर्ति पर चश्मा देशभक्ति की भावना से ओतप्रोत होकर ही लगाया। दूसरा यह कि हममें से अधिकांश लोग हालांकि नून-तेल-लकङी के चक्कर में पड़कर देशभक्ति के प्रदर्शन को एक बेकार की चीज मानते हों, हमारे बच्चों में देशभक्ति की भावना अपने मूल रूप में मौजूद है।
(ग) हालदार साहब पहले यह सोचकर मायूस हो रहे थे कि कस्बे के चौराहे पर बिना चश्मेवाली सुभाष की मूर्ति होगी। मूर्ति पर चश्मा लगाने वाला कैप्टन मर चुका है। अब सुभाष की मूर्ति पर चश्मा लगाने वाला कोई ना होगा। अब मूर्ति की आँखों पर चश्मा ना होगा। उन्होंने जब नेताजी की आंखों पर सरकंडे का चश्मा देखा तब वे यह सोचने पर मजबूर हुए कि यह तो किसी बच्चे का काम लगता है। यह कि हमारे देश के छोटे-छोटे बच्चे जिन्हें अभी बड़ा होना बांकी है वे देशभक्ति की भावना से ओतप्रोत है। यह भी कि जिस उम्र में लोगों को देश की क्या अपनी सुरक्षा की भी चिन्ता नहीं होती है। इस उम्र में ये बच्चे अपने देश के मान-सम्मान, सुरक्षा की रक्षा के प्रतीक सुभाषचंद्र बोस जैसे नेता के सम्मान के प्रति इतने चिन्तित हैं। हालदार साहब बच्चों की इन बातों को सोचकर भावुक हो उठे।

3) आशय स्पष्ट कीजिए-
‘‘बार-बार सोचते, क्या होगा उस कौम का जो अपने देश की खातिर घर-गृहस्थी-जवानी-जिंदगी सब कुछ होम देने वालों पर भी हँसती है और पने लिए बिकने के मौके ढूंढ़ती है।’’

Answer:4.2
उक्त उद्धरण लेखक स्वयंप्रकाश की रचना ‘नेताजी का चश्मा’ से ली गई है। लेखक उक्त उक्ति इनकी इस रचना के एक पात्र हालदार साहब के मुंह से कहलवाते हैं। हालदार साहब का इस बारे में बार-बार सोचना है कि भारत में कई लोग ऐसे हुए हैं जिन्होंने अपने देश की स्वतंत्रता की खातिर अपना सब कुछ न्यौछावर कर दिया। हमारे देश के इन वीर सपूतों ने इस हेतु अपने जान की परवाह भी नहीं की। देश की स्वतंत्रता के लिए उनमें दीवानगी इस हद तक थी कि उन्होंने इस हेतु अपने निजी सुख को परे रखते हुए देश की आजादी को अपना एकमात्र लक्ष्य माना और इस हेतु काफी कष्ट सहे। हालदार साहब स्वतंत्र भारत में लोगों के मन में इन स्वतंत्रता सेनानियों के प्रति सम्मान का अभाव देखते हैं। ये लोग स्वतंत्रता सेनानियों के त्याग के बारे में जरा भी नहीं सोचते हैं उल्टे उनकी देशभक्ति की भावना को फालतू की चीज समझते हैं। यहां तक कि ये लोग कुछ पाने की खातिर अपने देश के मान-सम्मान की बलि चढानी हो तो ये उस हेतु भी तैयार रहते हैं। ये लोग इतने स्वार्थी हो गये हैं कि इनकी नजरों में भौतिक सुख की प्राप्ति के आगे इनका देश भी मायने नहीं रखता है। इसका प्रत्यक्ष उदाहरण वे कैप्टन की मृत्यु के बाद नेताजी की मूर्ति की बच्चों को छोड़कर किसी अन्य के द्वारा सुध नहीं लिये जाने पर भी सोचते हैं।

4) पानवाले का एक रेखाचित्र प्रस्तुत कीजिए।

Answer:
स्वयंप्रकाश की इस रचना में कस्बे के चौराहे पर स्थित पानवाला एक काफी खुशमिजाज किस्म का व्यक्ति है। उसकी शारिरिक आकृति का रेखाचित्र खींचने पर हम पाते हैं कि वह स्थूल या कहें मोटे कदकाठी का स्वामी है। उसके शरीर का रंग काला है। उसके दांत पान खा खाकर अपनी स्वाभाविक चमक खो चुके हैं। वह गंभीर से गंभीर बात को हंसी में उड़ा जाता है। जैसे मूर्तिकार के नेताजी की मूर्ति पर चश्मा नहीं लगाने के बारे में हालदार साहब के पूछने पर उसका कहना-मास्टर भूल गया होगा से हमें ज्ञात होता है। या फिर कैप्टन को उसका प्यार से लंगड़ा कहने में जिस प्रकार हम पाते हैं। हंसी आने से पूर्व उसकी तोंद थिरकने लगती है और उसके दांत खुल कर सामने आ जाते हैं जिससे उसकी संपूर्ण काया अपनी पूर्णता प्राप्त कर लेती है। वैसे तो वह हंसमुख स्वभाव का है पर उसका अपना रिश्ता जिससे है उसके नुकसान पर वह मर्माहत हो उठता है और तब उसकी आंखों से आंसू निकल आते हैं। जैसे कैप्टन की मृत्यु पर हमें पानवाले में देखने को मिलता है।

5) ‘‘वो लँगड़ा क्या जाएगा फौज में। पागल है पागल!’’
कैप्टन के प्रति पानवाले की इस टिप्पणी पर अपनी प्रतिक्रिया लिखिए|

Answer:
प्रस्तुत उक्ति लेखक स्वयंप्रकाश ने पानवाले के मुंह से कहलवाई है। हालदार साहब जब चश्मावाले के बारे में यह जानकर कि लोग उसे कैप्टन कहते हैं वो तब पानवाले से इस बारे में पूछते हैं। उन्हें चश्मावाले के नाम और उसके काम में कुछ विरोधाभास लग रहा था। इसी कारणवश उन्होंने पानवाले से इस बारे में पता करने के उद्देश्य से उससे ऐसा पूछा। और पानवाला तपाक से बोल पङा- वो लंगड़ा क्या जाएगा फौज में, पागल है पागल।“ पानवाला भी अपनी समझ से ऐसा कह रहा था। उसे लग रहा था कि लोग जो अर्थोपार्जन कर यानि अपने रोजगार से सिर्फ अपनी घर-गृहस्थी पर ध्यान दें वैसे लोग ही सामान्य होते हैं ना कि वैसे लोग जो मन में देशभक्ति की भावना रखते हैं और उसी भावना में डूबे रहते हैं। वास्तव में पानवाला कैप्टन चश्मावाले की देशभक्ति की भावना को गहराई से नहीं समझ पा रहा था और वह कैप्टन की शारिरिक कमजोरी को भी उसकी स्थिति की गहराई में न जाकर उसकी वस्तुस्थिति को ना समझ पाने के कारण ही उसे लंगड़ा संबोधित कर रहा था। वह वास्तव में अधिक पढ़ा लिखा ना होने के कारण भी ऐसा कह रहा था। अधिक पढ़ा लिखा होने पर मनुष्य समझदार तो हो ही जाता है जिसकी कमी पानवाले में दिख रही थी और इसिलिए वह चश्मावाले के बारे में कटु सत्य कह रहा था।

6) निम्नलिखित वाक्य पात्रों की कौन-सी विशेषता की ओर संकेत करते हैं-
(क) हालदार साहब हमेशा चौराहे पर रुकते और नेताजी को निहारते।
(ख) पानवाला उदास हो गया। उसने पीछे मुड़कर मुँह का पान नीचे थूका और सिर झुकाकर अपनी धोती के सिरे से आँखे पोंछता हुआ बोला- साहब! कैप्टन मर गया।
(ग) कैप्टन बार-बार मूर्ति पर चश्मा लगा देता था।

Answer:
(क) लेखक स्वयंप्रकाश की इस रचना के एक पात्र हालदार साहब कस्बे के चौराहे पर हमेशा रूकते और नेताजी की मूर्ति को निहारते। हमें हालदार साहब के बारे में बताया गया है कि वो स्वतंत्रता सेनानियों के प्रति सम्मान की भावना रखते थे। तभी तो वो नेताजी सुभाषचंद्र बोस की मूर्ति पर मूर्तिकार द्वारा चश्मा लगाना भूल जाने पर इस बारे में पानवाले से पूछताछ करते हैं। वे कैप्टन द्वारा नेताजी की मूर्ति पर चश्मा लगाने पर खुश होते हैं और कैप्टन के नहीं रहने पर बच्चों द्वारा चश्मा लगाने पर तो वे काफी भावविभोर हो जाते हैं। इस प्रकार हालदार साहब नेताजी की मूर्ति को बार-बार निहार कर अपनी देशभक्ति की भावना का ही परिचय देते हैं।
(ख) कैप्टन के मरने पर पानवाले द्वारा इस प्रकार का भाव व्यक्त किया जाना हमें उसके कैप्टन के प्रति अगाध प्रेम को ही दर्शाता है। पानवाले ने भले ही कैप्टन के जीवनकाल में उसकी हंसी ही उड़ाई हो और उसे मजाक का पात्र बनाया। यहाँ तक कि उसने कैप्टन को लंगड़ा बताया। इन सब के बावजूद कैप्टन के मरने के बाद पानवाले की आंखों में आंसू आने से हमें साफ पता चलता है कि वह अन्दर ही अन्दर कैप्टन से अपनत्व की भावना रखता था।
(ग) कैप्टन बार-बार नेताजी की मूर्ति पर चश्मा लगा देता था। ऐसा करने का कारण उसका अपने अन्दर देशभक्ति की भावना के होने से है। वह वास्तव में हमारे देश के स्वतंत्रता सेनानियों खासकर नेताजी सुभाषचंद्र बोस के प्रति अपने मन में सम्मान की भावना रखता था। इन्हीं भावनाओं के तहत कैप्टन नेताजी की मूर्ति पर बार-बार चश्मा लगा देता था।

7) जब तक हालदार साहब ने कैप्टन को साक्षात देखा नहीं था तब तक उनके मानस पटल पर उसका कौन-सा चित्र रहा होगा, अपनी कल्पना से लिखिए

Answer:
हालदार साहब वास्तव में नेताजी की मूर्ति पर चश्मा लगाने वाले के बारे में जानने को उत्सुक थे। जब उन्होंने पानवाले से जाना कि कैप्टन मूर्ति पर चश्मा लगाता है तब उनके मानसपटल पर चश्मा लगाने वाले के बारे में अनोखा चित्र उभरा होगा। उन्होंने सोचा होगा कि कैप्टन कोई फौजी होगा। इसीलिये तो उसके मन में नेताजी के प्रति इतनी श्रद्धा है कि वह रोज आकर उनकी मूर्ति पर चश्मा लगा जाता है। हालदार साहब ने फिर यह भी सोचा होगा कि हो ना हो कैप्टन अवश्य ही नेताजी सुभाषचंद्र बोस के आजाद हिन्द फौज का साथी होगा और इसीलिये उसमें नेताजी और देश के प्रति प्रेम होगा। जिसे कि वह मूर्तिकार द्वारा नेताजी की मूर्ति पर चश्मा लगाना भूल जाने के कारण उसे वैसा ही नहीं छोड़ता है बल्कि उनकी मूर्ति की आंखों पर चश्मा लगा देता है।

8) कस्बों, शहरों, महानगरों के चौराहों पर किसी न किसी क्षेत्र के प्रसिद्ध व्यक्ति की मूर्ति लगाने का प्रचलन-सा हो गया है-
(क) इस तरह की मूर्ति लगाने के क्या उद्देश्य हो सकते हैं?
(ख) आप अपने इलाके के चौराहे पर किस व्यक्ति की मूर्ति स्थापित करवाना चाहेंगे और क्यों?
(ग) उस मूर्ति के प्रति आपके एवं दूसरे लोगों के क्या उत्तरदायित्व होने चाहिए?

Answer:
(क) इस तरह की मूर्ति लगाने का पहला उद्देश्य तो यह हो सकता है कि लोग इन महापुरुषों की स्मृतियों को अपने मन में ताजा बनाये रखें। चूंकि लोग प्रायः रोज इन चौरहों से होकर गुजरते हैं इसलिए मूर्ति का चौराहे पर अवस्थित होने से उनकी एक बार भी मूर्ति की ओर नजर पङने से उनके स्मरण में वो महापुरुष आ जाएंगे। दूसरा उद्देश्य जो कि मूख्य उद्देश्य है और वह है मूर्ति के माध्यम से उन महापुरुष के व्यक्तित्व और कृतित्व के बारे में आम जनता को जानकारी होना। उनकी इन स्थानों के चौराहे पर मूर्ति लगाने से इस मुख्य उद्देश्य की भी पूर्ति हो सकती है।
(ख) मैं अपने इलाके के चौराहे पर भगवान बुद्ध की मूर्ति स्थापित करवाना चाहूंगा। हम सभी जानते हैं भगवान बुद्ध मध्यम मार्ग को सर्वश्रेष्ठ मार्ग मानते थे।इसके अन्तर्गत हमें विपरीत परिस्थितियों में भी शान्त बने रहने की प्रेरणा मिलती है। अतः मैं इस मार्ग को जीवन जीने हेतु सर्वथा उपयुक्त मार्ग मानता हूँ और इसके सभी के लिए अनुकरणीय बनाने हेतु मैं बुद्ध की मूर्ति अपने इलाके के चौराहे पर स्थापित करवाना चाहता हूं।
(ग) भगवान बुद्ध की इस मूर्ति के प्रति मेरा पहला दायित्व तो इसकी देखभाल और सुरक्षा हेतु हमारे कदम पर होना चाहिए। मूर्ति सम्मानजनक स्थिति में रहे यह भी मेरे दायित्वों में शामिल है। साथ ही मैं प्रत्येक वर्ष कम से कम बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर इस महापुरुष के सम्मान में कार्यक्रम कर लोगों के बीच जागरुकता फैलाना चाहता हूं।

9) सीमा पर तैनात फौजी ही देश-प्रेम का परिचय नहीं देते। हम सभी अपने दैनिक कार्यों में किसी न किसी रूप में देश-प्रेम प्रकट करते हैं; जैसे- सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान न पहुँचाना, पर्यावरण संरक्षण आदि। अपने जीवन-जगत से जुड़े ऐसे और कार्यों का उल्लेख कीजिए और उन पर अमल भी कीजिए।

Answer:
हम सभी अपने दैनिक कार्यों में कुछ ना कुछ कर इसे देशप्रेम के उदाहरण के रूप में प्रदर्शित कर सकते हैं। एक कहावत ‘ जहाँ चाह वहाँ राह’ का अर्थ हम सब जानते हैं। यह बात देशप्रेम के मामले में भी लागू होती है। कहने का अर्थ है हमें देशप्रेम की चाह रखने पर हमें उसके प्रदर्शन के मौके अपने आप मिल जाएंगे। जैसे हम वर्ष के तीन रास्ट्रीय पर्व अर्थात गणतंत्र दिवस, स्वतंत्रता दिवस और महात्मा गांधी के जन्मदिन अर्थात अन्तर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस के मौके पर हम इन त्यौहारों के रूप में मनाकर अपनी देशप्रेम की भावना का प्रदर्शन कर सकते हैं। इन अवसरों पर हम जहाँ और जिस स्थिति में हों हम अपने सामर्थ्य से इन दिवसों को एक अविस्मरणीय घटना के रुप में याद करने लायक बना सकते हैं। इसके अलावा हम ऐसी हर चुनौती जिसका सामना हमें अपने देश के विकास होने के क्रम में करना पड़े उसे स्वीकार कर व्यक्तिगत और सामाजिक ढंग से उस चुनौती को स्वीकार कर अपनी देशभक्ति का परिचय दे सकते हैं। हमें अपने देश में मौजूदा लोकतांत्रिक व्यवस्था के तहत अपना सहयोग देश को आगे बढाने में सरकार को देना होगा। सिर्फ वोट देकर सारी बातों को अगले 5 सालों तक भूल जाने वाले रवैये से हमें कुछ हासिल नहीं होने वाला है। चाहे वह चुनौती स्वास्थ्य के क्षेत्र में प्रदूषण, पर्यावरण या अन्य चीजों से जुड़ी हो या शिक्षा या अन्य क्षेत्र की बात हो सबमें हम अपनी देशभक्ति इन क्षेत्रों के विकास में एक भागीदार हो कर ही प्रदर्शित कर सकते हैं चाहे वह वेट एण्ड वाच(प्रतीक्षा करो और स्थिति पर नजर बनाये रखो) वाली भागीदारी ही क्यों न हो।

10) निम्नलिखित पंक्तियों में स्थानीय बोली का प्रभाव स्पष्ट दिखाई देता है, आप इन पंक्तियों को मानक हिंदी में लिखिए-
कोई गिराक आ गया समझो। उसको चौड़े चौखट चाहिए। तो कैप्टन किदर से लाएगा? तो उसको मूर्तिवाला दे दिया। उदर दूसरा बिठा दिया।

Answer:
लेखक ने प्रस्तुत उक्ति पानवाले के मुंह से कहलवाई है। वास्तव में हालदार साहब कैप्टन द्वारा नेताजी की मूर्ति पर अलग-अलग चश्मा लगाने का कारण जानने के बारे में उत्सुक थे। उन्होंने इस बारे में पानवाले से पूछा। तब पानवाले ने हालदार साहब को जो बातें उत्तर के रूप में बताईं वही प्रस्तुत उक्ति बनकर हमारे सामने आया है। पानवाले का उत्तर है-आप समझिये। चश्मा के दुकानदार कैप्टन के पास कोई चश्मा के मोटे फ्रेम की चाह रखने वाला ग्राहक आ गया होगा और वह फ्रेम कैप्टन के नेताजी की मूर्ति पर पहले ही अच्छा समझकर लगा दिया होगा। अब उसे ग्राहक की मांग पर उसे उसकी पसंद की मोटी फ्रेम वाला चश्मा भी उपलब्ध कराना था। अब वह चश्मा कहां से लाता? इसीलिये कैप्टन ने मूर्ति वाला मोटा फ्रेम उतारकर उस ग्राहक को दे दिया और नेताजी की मूर्ति पर उसने अपनी पसंद का दूसरा चश्मा लगा दिया।

Comments

  • No Comments
Log Out?

Are you sure you want to log out?