दिल Read Count : 20

Category : Diary/Journal

Sub Category : N/A
दिलवालों की दुनिया में मैं भी एक दिल लेके आया हूँ,
आपका शीशे के था मैं पत्थर का लेके आया हूँ।।

Comments

  • No Comments
Log Out?

Are you sure you want to log out?