जिंदा हूँ मै Read Count : 16

Category : Songs

Sub Category : LoveSong
जिंदा हूँ मै जिंदा हूँ मै जिंदा हूँ मै 
सारा जहाँ सोया है; पर जिंदा हूं मै।धृ। 
किसिका बुरा ना चाहूँ
सबका भला ही चाहू
वही सृष्टी का बंदा हूँ मै। 
निला आसमां मेरी चादर है
हरी धरती मेरा  बिस्तर है
वही इक आजा़द परिंदा हूँ मै। 
सृष्टीही सबकुछ देती है
प्रीत सबसे वह करती है
उसिके जैसे सब वैसे ,नंदा हूँ मै। 
हर संकटसे लड़ जावू
हर बिहड़से रास्ता पाऊ
इस सृष्टी का खंदा हूँ मै। 
मैदान से ना कभी मै भागू
दंत बैरीके खट्टे कर दू
नित लढ़ जाऊ ,एक मलिंगा हूँ मै।  
रातको रोशनी मै बिखेर दू
सबके सपने अपने कर दू
शितलता दे दू ,वह चंदा हूँ मै। 

 alive I am alive I am alive I am
Every thing are slept ;but alive I am   ... 
I  any bad not want
Everyone Good want
The same composed of frainds I am. 
Sky Can my sheet is
Green earth my bed is
It is a flying bird I am.  
natur feed everything 
It's love for everything
Use like all by the way ,sun I am. 
I am redy to fighting with bads
I am ready to find the way onto bads
It's  a pole of nature I am    . 
From the field, never I go out
I can broke , my challanger's tooth
All the time fighter I am  . 
 I spread the light in to every night
I fulfill  the dreams which show at night
Which gives coolness, It's a moon I am  . 
****
            *

Comments

  • nice

    Aug 18, 2019

Log Out?

Are you sure you want to log out?